External Link Kya Hai कैसे करें और इसके फायदे

 पिछले लेख में हमने जाना था कि Internal Linking क्या है आज के इस लेख में हम जानेंगे कि External Link Kya Hai, External Link देने समय हमें किन बातों को ध्यान में रखना चाहिए और External Link के क्या – क्या फायदे आपको मिल सकते हैं.

बहुत सारे नए Blogger को External Linking की सही Strategy के बारे में पता नहीं होता है और वे इस प्रकार से अपने ब्लॉग में External Link करते हैं कि उनके ब्लॉग का Bounce Rate बढ़ जाता है.

आपको External Linking सही प्रकार से करनी होती है, और ऐसे External Link देने होते हैं जिससे कि आपके Blog पर गूगल का Trust बने, आप ये कैसे कर सकते हैं इसकी पूरी जानकारी आपको इस आर्टिकल में मिल जायेगी. तो चलिए बिना देरी के शुरू करते हैं इस लेख को और जानते हैं External Link Kya Hai विस्तार से.

जब हम अपने किसी वेबपेज में किसी दूसरी वेबसाइट या उसके वेबपेज को लिंक करते हैं तो इसे External Link कहा जाता है.External Link को Outbound Link भी कहा जाता है.

SEO के Point of View से External Link बहुत Important होता है. Backlink गूगल के Ranking Factor में से एक महत्वपूर्ण फैक्टर है. अगर आपको किसी अन्य वेबसाइट से External Link मिलता है तो गूगल के नजरिये में आपके वेबसाइट की Authority Increase होती है. इससे गूगल को Direct यह Signal जाता है कि आपकी वेबसाइट का कंटेंट Valuable है.

इसी प्रकार जब आप दूसरी High Authority वेबसाइट को External Link देते हैं तो गूगल का उस वेबसाइट के साथ – साथ आपकी वेबसाइट पर भी Trust बनता है.

अधिकतर बहुत सारे लोगों का यह प्रशन होता है कि External Link क्यों दिया जाता है इससे तो यूजर हमारी वेबसाइट से Exit कर लेगा जो कि सही भी है. आमतौर पर हमें External Link तब देना चाहिए जब हम अपने किसी बात की पुष्टि कर रहे हैं.

माना जैसे कि मैं अपने आर्टिकल में लिखता हूँ कि इन्टरनेट पर पहली वेबसाइट 1991 में बनी थी तो मुझे इस बात की पुष्टि करने के लिए किसी High Authority वेबसाइट के उस Webpage का Link अपने आर्टिकल में देना होगा जिसमें यह लिखा होगा कि 1991 में पहली वेबसाइट बनी थी. तभी गूगल हमारी वेबसाइट पर Trust कर पायेगा.

इन्टरनेट सूचनाओं का अथाह भण्डार है इसमें सही जानकारी भी उपलब्ध है तो गलत भी इसलिए कुछ Specific इनफार्मेशन की पुष्टि के के लिए External Link देना जरुरी है.

External Link देते समय आपको निम्न बातों का ध्यान देना चाहिए –

  • जब जरुरी हो तभी आप External Link दें, अन्यथा External Link मत दें.
  • जिस भी वेबसाइट या Webpage को आप External Link दे रहे हैं उसकी Authority High होनी चाहिए. Google का उस वेबसाइट पर Trust होना जरुरी है.
  • एक ही वेबपेज में बहुत अधिक एक्सटर्नल लिंक मत करें.
  • अपने आर्टिकल से Relevant वेबपेज का ही एक्सटर्नल लिंक करें.
  • Anchor Text पर ही एक्सटर्नल लिंक करें.
  • आपकी वेबसाइट की Value बढती है.
  • User experience (यूजर का अनुभव) बेहतर होता है.
  • गूगल का आपकी वेबसाइट पर Trust बढ़ता है.
  • अगर किसी अन्य वेबसाइट से आपको एक्सटर्नल लिंक मिलता है तो आपकी वेबसाइट की Domain Authority और Page Authority भी बढती है.

अनेक सारे ब्लॉगर External Link और Backlink में बहुत Confuse हो जाते हैं, लेकिन वैसे देखा जाये ये दोनों एक समान ही हैं.

एक उदाहरण के द्वारा इसे आसानी से समझते हैं – माना आप अपने किसी वेबपेज में दूसरी वेबसाइट को एक्सटर्नल लिंक करते हैं तो यह आपके लिए External Link होगा लेकिन उस वेबसाइट के लिए यह एक बैकलिंक है. केवल इतना ही फर्क है External Link और बैकलिंक में.

यह भी पढ़ें –

आज के इस लेख के माध्यम से हमने सीखा कि External Link Kya Hai और आप कैसे External Link कर सकते हो. जब भी आप एक्सटर्नल लिंक करें तो लेख में बताई गयी बातों को ध्यान में रखकर एक्सटर्नल लिंक करें.

उम्मीद करते हैं आपको मेरे द्वारा लिखा गया यह लेख जरुर पसंद आया होगा, अगर आपको इस लेख से कुछ फायदा मिला है तो इसे सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करें. और अगर आपके कोई प्रशन हैं तो कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं.

लेख को अंत तक पढने के लिए धन्यवाद||

Categories SEO

Hey Friends, I am Devendra Rawat. I am Blogger|| Hinditechdr.com Blog बनाने का मेरा यही मकसद है कि Hindi Readers को Blogging, SEO, Internet आदि की सटीक जानकारी हिंदी भाषा में प्रदान करा सकूँ. मेरे Blog पर आने के लिए धन्यवाद ||

Leave a Comment