Google EAT Kya Hai और EAT Score कैसे बढ़ाएं

Google EAT Kya Hai : – आज SEO बहुत Advance हो गया है यह कीवर्ड और कंटेंट तक सीमित नहीं रह गया है.  खासकर कि गूगल अपने सर्च इंजन को बहुत ही अधिक स्मार्ट बनाता जा रहा है. गूगल समय – समय पर नए – नए अपडेट लाते रहता है. उन्हीं में से एक है Google EAT .

2022 में Google EAT एक बहुत बड़ा रैंकिंग फैक्टर साबित होने वाला है. इसलिए SEO में EAT Concept को हम Ignore नहीं कर सकते हैं. आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको बतायेंगे कि Google EAT क्या है. यह किस प्रकार की वेबसाइट के लिए महत्वपूर्ण है और आप कैसे अपने EAT स्कोर को बढ़ा सकते हैं.

इस लेख को पढने के बाद आपको Google EAT अल्गोरिथम को समझने में आसानी होगी और आप भी अपने EAT Score को बढ़ा पायेंगे. तो चलिए शुरू करते हैं आज के इस लेख को. Google EAT को जानने से पहले EAT का Full Form जान लेते हैं.

EAT Full Form

  • E – Expertise (विशेषज्ञता)
  • A – Authoritativeness (अधिकार)
  • T – Trustworthiness (भरोसा)

Google EAT Kya Hai

“Google EAT एक ऐसा कांसेप्ट है जिसके द्वारा गूगल यह सुनिश्चित करता है कि इन्टरनेट यूजर को प्रदान करवाए जाने वाली जानकारी सही है और उसे सही लोगों के द्वारा प्रदान करवाया जा रहा है.”

जैसा कि आप सभी जानते हैं Google दुनिया का सबसे बड़ा और भरोसेमंद Search Engine है. इसलिए गूगल चाहता है कि जो जानकारी वह लोगों तक पहुचाये वह एकदम सही हो, और सही लोगों द्वारा लिखी गयी हो. अब सवाल यह आता है कि गूगल को कैसे पता चलेगा कि जो किसी ब्लॉग पर कंटेंट लिख रहा है वह व्यक्ति उस Blog पर कंटेंट लिखने के लिए सही है या नहीं.

इसी को Find out करने के लिए गूगल ने अपने अल्गोरिथम को अपडेट करते हुए EAT Concept को निकाला था. गूगल के मुताबिक क्रिएटर अपनी वेबसाइट पर जो भी कंटेंट पब्लिश करते हैं उसे EAT की गाइडलाइन को फॉलो करते हुए ही पब्लिश करना चाहिए.

पहले हम EAT को एक – एक कर समझते हैं. फिर आगे की सभी और चीजों को जानेंगे –

E (Expertise) – विशेषज्ञता

Expertise का मतलब होता है विशेषज्ञता.

आप जिस निच पर ब्लॉग लिखते हैं, और अगर आप उस निच में विशेषज्ञ हैं तो आपको रैंकिंग में फायदा मिलेगा. लेकिन अगर आप ऐसे निच पर ब्लॉग लिखते हैं जिसकी आपको अच्छी समझ नहीं है तो शयद ही आपकी वेबसाइट गूगल में रैंक करें.

माना आप Finance Niche के ऊपर ब्लॉग लिखते हैं और आपको फाइनेंस के बारे में अधिक इनफार्मेशन नहीं है या आप फाइनेंस के क्षेत्र से जुड़े एक व्यक्ति नहीं हैं तो आपको रैंकिंग में कोई फायदा नहीं मिलने वाला है.

इसलिए ब्लॉग हमेशा उसी विषय पर लिखें जिसमें आप विशेषज्ञ हैं.

A (Authoritativeness) – अधिकार

Authoritativeness का मतलब होता है अधिकार.

जो भी कोई व्यक्ति इन्टरनेट पर ब्लॉग बनाकर कंटेंट प्रदान करवाता है, तो उस व्यक्ति या ब्लॉग ऑथर के पास एक अधिकार होना चाहिए कि वह उस ब्लॉग पर कंटेंट लिख सकें.

माना आप हेल्थ के ऊपर ब्लॉग बनाते हैं तो आपको ब्लॉग में कंटेंट लिखने के लिए एक डॉक्टर होना भी आवश्यक है. तभी आपके पास हेल्थ निच पर ब्लॉग लिखने की अथॉरिटी या अधिकार होगा.

आपकी अथॉरिटी चेक करने के लिए गूगल अलग – अलग सोशल मीडिया में आपकी प्रोफाइल देखेगा, दूसरी वेबसाइट आपके बारे में क्या कहती है वह सब देखेगा. अगर आपकी प्रोफाइल सब जगह गूगल को डॉक्टर के रूप में मिलती है तो गूगल आपको हेल्थ निच पर ब्लॉग लिखने के लिए एक Authorized Person मानेगा. इससे ब्लॉग की और ब्लॉग ऑथर की अथॉरिटी भी बढती है.

T (Trustworthiness)भरोसेमंद

Trustworthiness का मतलब होता है भरोसेमंद.

गूगल यह भी देखता है कि लोग किस तरह से आपके कंटेंट के साथ Interact कर रहें हैं. वह आपके कंटेंट पर कितना भरोसा करते हैं, आपके कंटेंट को कितना अधिक शेयर करते हैं. अगर गूगल को लगता है कि आपके कंटेंट पर लोग भरोसा करते हैं तो आपको रैंकिंग में इसका फायदा भी मिलेगा.

EAT कौन सी वेबसाइट के लिए महत्वपूर्ण है?

अभी तक आप लोग समझ गए होंगे कि Google EAT Kya Hai, अब यह जानना भी जरुरी है कि किस प्रकार की निच के लिए EAT कांसेप्ट महत्वपूर्ण है.

EAT मुख्यतः YMYL (Your Money Your Life) प्रकार के वेबसाइट की रैंकिंग के लिए बहुत महत्वपूर्ण है. आगे बढ़ने से पहले जान लेते हैं कि YMYL वेबसाइट किस प्रकार की वेबसाइट को कहते हैं.

YMYL वेबसाइट क्या होती हैं ?

YMYL ऐसी वेबसाइट होती हैं जहाँ यूजर को पैसों और हेल्थ के विषय में सुझाव दिया जाता है. इस प्रकार की वेबसाइट यूजर के स्वास्थ और रुपयों से सम्बंधित जानकारी को बताती हैं. इसी टाइप की वेबसाइट YMYL के अंतर्गत आती है. जैसे Health, Finance, Insurance, e-commerce.

अब जानते हैं कौन सी ऐसी वेबसाइट होंगी जिन पर EAT का सबसे बड़ा प्रभाव पड़ेगा.

Health, Fitness, Diet, Nutrition 

अगर आप हेल्थ निच पर ब्लॉग लिखते हैं तो आपकी रैंकिंग तभी Improve होगी जब आपका ब्लॉग ऑथर EAT की गाइडलाइन को फॉलो करेगा. क्योकि Health बहुत Sensitive Topic है. अगर आप हेल्थ के बारे में गलत जानकारी Provide करवाते हैं तो लोगों की जान को खतरा हो सकता है.

Finance, Insurance, Investment 

फाइनेंस, Insurance, इन्वेस्टमेंट जैसी वेबसाइट ऐसी वेबसाइट होती हैं जहाँ पर लोगों को सुझाव दिया जाता है कि अपने पैसे कहाँ निवेश करें. इसलिए इस प्रकार की वेबसाइट में गलत जानकारी देने से लोगों के पैसे डूब सकते हैं. अतः इन वेबसाइट के लिए भी EAT का कांसेप्ट बहुत महत्वपूर्ण है.

e-commerce Website 

e-commerce वेबसाइट में यूजर को अपनी पर्सनल डिटेल भरनी करनी होती है जैसे बैंक अकाउंट की जानकारी, क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड इत्यादि. इस प्रकार की वेबसाइट में यूजर के साथ धोखा – धडी होनी की संभावना रहती है. e-commerce वेबसाइट भी YMYL के अंतर्गत आती है.

EAT स्कोर कैसे बढ़ाएं

EAT को Improve करने के लिए आप नीचे बताई गयी 4  बातों का ध्यान रखें –

1 – ऑथर प्रोफाइल बनायें 

जब भी आप ब्लॉग बनाते हैं तो अपने ब्लॉग में ऑथर प्रोफाइल जरुर बनायें. जिससे गूगल को पता चल सके कि आपके ब्लॉग पर कंटेंट कौन लिखता है. अगर आप खुद लिखते हैं तो आप अपने बारे में अच्छे से बताइए कि जिस विषय पर आप ब्लॉग लिख रहें हैं उस विषय में आपको कितना अनुभव है.

जैसे आप Health पर ब्लॉग लिखते हैं तो अपने ऑथर प्रोफाइल में आपने जितने भी Hospital में काम किया है उसके बारे में बताइए.

2 – सोशल मीडिया प्रोफाइल बनायें

अपने Blog Writer के अलग – अलग सोशल मीडिया में अकाउंट बनायें. और सभी अकाउंट को प्रोफेशनल बनायें.

जैसे आपका ब्लॉग हेल्थ पर है तो सोशल मीडिया प्रोफाइल में भी आपको अपने ब्लॉग लेखक को एक डॉक्टर के रूप में बताना है. ब्लॉग लेखक के सोशल मीडिया प्रोफाइल को अपने ब्लॉग ऑथर प्रोफाइल में ऐड जरुर करें.

3 – फोरम वेबसाइट में सवालों के जवाब दें

ऐसी बहुत सी Forum वेबसाइट होती हैं जिसमें लोग सवाल – जवाब करते हैं, जैसे Quora. आप फोरम वेबसाइट पर अपनी प्रोफाइल बनाएं और अपने Blogging Niche से सम्बंधित प्रश्नों का उत्तर दें. यह आपके EAT स्कोर को Improve करने में बहुत अधिक मदद करेगा.

4 – Relevant वेबसाइट से बैकलिंक बनायें 

आप जब भी Backlink बनाते हैं तो आपको निच से सम्बंधित वेबसाइट पर ही बैकलिंक बनाएं. जब आप अपने निच से सम्बंधित किसी हाई अथॉरिटी वेबसाइट से बैकलिंक बनाते हैं तो गूगल को भी आपकी वेबसाइट पर भरोसा होने लगता है.

अगर आप इन 4 Tips को फॉलो करते हैं तो आपका EAT जरुर Improve होगा और आपकी वेबसाइट की रैंकिंग में भी सुधार होगा.

यह लेख भी पढ़ें –

आपने क्या सीखा

इस लेख के माध्यम से हमने Google EAT Kya Hai और इससे सम्बंधित जानकारी को आपके साथ साझा किया. हमें उम्मीद है कि इस लेख से आपको EAT के बारे में बहुत कुछ सीखने को जरुर मिला होगा.

आशा करता हूँ दोस्तों आपको यह लेख जरुर पसंद आया होगा. इस लेख को अपने उन दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करें जो SEO के बारे में सीखना चाहते हैं. लेख को अंत तक पढने के लिए आपका धन्यवाद||

Categories SEO

Hey Friends, I am Devendra Rawat. I am Blogger|| Hinditechdr.com Blog बनाने का मेरा यही मकसद है कि Hindi Readers को Blogging, SEO, Internet आदि की सटीक जानकारी हिंदी भाषा में प्रदान करा सकूँ. मेरे Blog पर आने के लिए धन्यवाद ||

Leave a Comment