What is Backlink in Hindi : बैक लिंक क्या होते हैं

दोस्तों आपने Backlink का नाम तो जरुर सुना होगा, पर क्या आप जानते हैं बैक लिंक क्या होते हैं ( What is Backlink in Hindi )? इसे कैसे बनाते हैं? और Search Engine Result Pages ( SERP ) में अच्छी रैंकिंग पाने के लिए यह कितने महत्वपूर्ण हैं. इस लेख में बैकलिंक के बारे में चर्चा करेंगे और बैकलिंक से जुड़े सभी टॉपिक पर अच्छे से चर्चा करेंगे.

जब भी हम Off Page SEO के बारे में बात करते हैं तो हमारे दिमाग में सबसे पहले Backlink का ही ख्याल आता है, यह काफी हद तक भी सही है क्योकि Google के 200 + रैंकिंग फैक्टर में Backlink भी एक महत्वपूर्ण रोल अदा करता है.

हालाँकि OFF Page SEO सिर्फ backlink तक सीमित नहीं होता है यह इससे कही अधिक है जिसे मैंने पिछले आर्टिकल में बताया है | पर इस आर्टिकल में हम पूरी तरह से बैकलिंक के विषय में और Search Engine Optimization में इसकी Important को जानेंगे, आइये बिना देरी के शुरू करते हैं, और जानते हैं कि बैकलिंक क्या होता है.

बैकलिंक क्या होते हैं ( What is Backlink in Hindi )

बैकलिंक किसी भी दो वेबसाइट को जोड़ने का काम करती है. दुसरे शब्दों में कहें तो एक वेबसाइट से दुसरे वेबसाइट तक पहुचने के रास्ता बैकलिंक कहलाते हैं.

माना A कोई एक वेबसाइट है और उस वेबसाइट का लिंक किसी अन्य वेबसाइट B पर है तो इसका मतलब होगा कि वेबसाइट A को वेबसाइट B से बैकलिंक मिला है.

चलिए एक वास्तविक जीवन उदाहरण द्वारा इसे समझाता हूँ ताकि backlink को समझने में आपको आसानी हो –

जब भी हम किसी प्राइवेट कंपनी में इंटरव्यू के लिए जाते हैं अधिकतर हम ऐसे दोस्त या रिश्तेदार के Reference से जाते हैं, जिसकी उस कंपनी में पहले से ही जान पहचान हो. जिसकी मदद से हमें वह जॉब जल्दी मिल जाती है. अब इस उदहारण में –

  • हम – हमारी वेबसाइट हैं.
  • दोस्त या रिश्तेदार हमारे लिए बैकलिंक हैं.
  • और कंपनी के HR Search Engine ( Google , Yahoo ,Bing etc. ) हैं.

इस उदाहरण से आप आसानी से समझ गए होंगे कि Backlink Kya Hote Hai. अब जानते हैं यह कितने प्रकार के होते हैं.

यह भी पढ़ें –

बैकलिंक के प्रकार ( Types of Backlink in Hindi )

बैकलिंक दो प्रकार के होते हैं –

  • DO-Follow-Backlink
  • No-Follow-Backlink

DO-Follow-Backlink

जब किसी वेबसाइट का लिंक किसी दूसरी वेबसाइट पर होता है, और उस वेबसाइट का ओनर सर्च इंजन को संकेत देता है कि इस वेबसाइट को भी फॉलो करो यह भी अच्छी साईट है तो उसे DO-Follow-Backlink कहते हैं.

DO-Follow-Backlink में No follow का कोई भी टैग नहीं होता है. यह एक फायदा देने वाला बैकलिंक होता है , और सर्च इंजन में रैंकिंग सुधारने में काम आता है.

DO-Follow-Backlink टैग

< a

href = “website URL” > Anchor Text < /a >

 No-Follow-Backlink  

जब किसी वेबसाइट का लिंक किसी दूसरी वेबसाइट पर होता है, और उस वेबसाइट का ओनर सर्च इंजन को संकेत देता है मैं इस वेबसाइट को फॉलो नहीं करना है, बस किसी कारणवश इस वेबसाइट का लिंक मेरे वेबसाइट पर है तो इसे No-Follow-Backlink कहते हैं.

No-Follow-Backlink में No follow का टैग होता है. SERP पर रैंकिंग के लिए यह ज्यादा फायदेमंद नहीं होते हैं पर एक वेबसाइट या ब्लॉग की Link Profile Strong बनाने के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण होते हैं.

No-Follow-Backlink टैग 

< a

href = “website URL / ” rel = < nofollow > Anchor Text < a/ >

यह भी पढ़ें –

बैकलिंक कैसे बनाते हैं ( How to Create Backlink in hindi )

बैकलिंक बनाने की बहुत सी विधियाँ हैं जिनमें से कुछ प्रमुख मैंने निचे बताई बताई है –

Backlink Kaise Banaye

गेस्ट पोस्ट के द्वारा

गेस्ट पोस्ट बैकलिंक बनाने का एक सबसे बढ़िया जरिया है यहाँ से हमें एक हाई quality का DO-Follow-Backlink मिलता है. गेस्ट पोस्ट के द्वारा ब्लॉग पर अच्छा ट्राफिक भी आता है और वेबसाईट की रैंकिंग भी सुधरती है.

गेस्ट पोस्ट करने के लिए आपको अपने Niche से सम्बंधित एक High Authority Blog के Owner से Contact करना होगा और गेस्ट पोस्ट के लिए Request करनी होगी. अगर वे आपकी Request को Accept करते हैं तो आप उस Blog में गेस्ट पोस्ट करके एक High Quality Backlink बना सकते हैं.

कमेन्ट के द्वारा 

कमेन्ट के द्वारा अधिकतर No-follow-backlink मिलता है पर यह वेबसाइट की लिंक प्रोफाइल अच्छी करने के लिए महत्वपूर्ण होता है. No Follow Backlink में कोई Link Juice पास नहीं होता है.

कमेन्ट के द्वारा Backlink बनाने के लिए उन ब्लॉग पोस्ट पर कमेन्ट करना है जो आपकी Niche से सम्बंधित है और कमेन्ट में अपनी वेबसाइट का लिंक add करना है.

Question Answer वेबसाइट ( Forum ) से 

Forum वेबसाइट से भी No-follow-backlink मिलता है. अपने ब्लॉग से सम्बंधित Forum या Quora और  Google Question Hub जैसे Forum वेबसाइट पर लोगों के प्रश्नों का जवाब दें और अपनी वेबसाइट का लिंक ADD करें. Forum वेबसाइट से ब्लॉग पर अच्छा ट्राफिक आता है और साथ में बैकलिंक भी मिल जाता है.

यह भी पढ़ें –

बैकलिंक से जुड़े कुछ प्रशन ( FAQ For Backlink )

Q – Anchor Text क्या होता है ?

Anchor Text वह text होता है, जिसके साथ hyperlink जुड़ा होता है. जैसे हम अपने आर्टिकल में किसी Text पर Link दे देते हैं तो वही Anchor Text कहलाता है.

Q – Link Juice क्या होता है ?

जब किसी भी वेबसाइट से आपको DO-Follow-Backlink मिलता है तो उस वेबसाइट से कुछ Value आपके वेबसाइट को मिलती है, SEO की भाषा में इस Value को ही Link Juice कहते हैं.

Q – Low Quality बैकलिंक क्या होता है ?

अगर आपकी वेबसाइट का लिंक किसी ऐसी वेबसाइट पर बना है जिसका Spam Score अधिक है , या कोई Spamy वेबसाइट पर आपकी साईट का लिंक बना है तो इस प्रकार के backlink को Low Quality बैकलिंक कहते हैं. Low Quality बैकलिंक बनाने से वेबसाइट की रैंकिंग गिरती है इसलिए कभी भी इस प्रकार के backlink नहीं बनाने चाहिए.

Q – High Quality बैकलिंक क्या होता है ?

जब आपकी वेबसाइट का लिंक ऐसी वेबसाइट पर बना होता है जिसकी Authority अधिक है, जो अच्छी वेबसाइट है या फिर आपके Niche से सम्बंधित वेबसाइट है तो ऐसे लिंक को High Quality बैकलिंक कहते हैं. High Quality बैकलिंक बनाने के बहुत फायदे होते हैं. इससे रैंकिंग सुधरती है और वेबसाइट की value और Authority भी बढती है.

Q – Internal Linking क्या होती है ?

जब हम अपने किसी एक webpage पर अपने ही किसी अन्य webpage का लिंक देते हैं तो इसे Internal Linking कहते हैं. Internal लिंक के कई फायदे होते हैं इसलिए जब भी आर्टिकल लिखे तो उसमे इंटरनल लिंक जरुर दें.

Q – External Link क्या होता है ?

जब हम अपने webpage पर किसी दूसरी वेबसाइट के webpage का लिंक देते हैं तो इसे External Link लिंक कहते हैं.

External Link का प्रयोग हम अपनी बात की पुष्टि के लिए करते हैं . जैसे हमने इन्टरनेट के बारे में एक पोस्ट लिखी और उसमे हमने एक टॉपिक लिखा कि इन्टरनेट पर पहली वेबसाइट 1991 में बनी , तो इस बात की पुष्टि के लिए हम किसी अच्छी अथॉरिटी वाले वेबसाइट की लिंक को दे सकते हैं.

External Link के भी कई फायदे होते हैं , इसलिए अपने आर्टिकल में हमेशा आवश्यकतानुसार एक्सटर्नल लिंक का प्रयोग भी करना चाहिए.

Q – बैकलिंक को Search Engine में Index होने में कितना समय लगता है?

इसका कोई सटीक जवाब नहीं हैं पर अक्सर अधिकतर एक हफ्ते में बैकलिंक को Search Engine Index कर लेते हैं.

Q – वेबसाइट के बैकलिंक को कैसे पता करें कि NO Follow है या Do Follow है?

यह पता करने के लिए Simply आप Google पर Backlink Checker सर्च कर सकते हो. यहाँ आपको बहुत सारे Tool मिल जायेंगे जिसके माध्यम से आप किसी भी वेबसाइट के backlink check कर सकते हो. कुछ backlink checker tool –

हमने क्या सीखा : Backlink in Hindi 

जैसे कि हमने आज के इस लेख के माध्यम से सीखा कि बैकलिंक क्या होते हैं ( What is Backlink in Hindi ) और यह कितने प्रकार के होते हैं. इसके अलावा बैकलिंक से जुडी कुछ महत्वपूर्ण बातों के बारे में जाना.

Backlink एक Important Factor होते हैं Search Engine Ranking में इसलिए कभी भी आप अधिक Backlink बनाने पर ध्यान न दें हमेशा Quality Backlink बनाने पर ध्यान दें.

उम्मीद करता हूँ कि आपको यह लेख पसंद आया होगा और आपको Backlink से जुडी बहुत सारी चीजों के बारे में जानने को मिला होगा. आपके मन में backlink से जुड़े कोई भी प्रशन हैं तो आप कमेन्ट बॉक्स में पूछ सकते हैं. और इस लेख को शेयर करना न भूलें. धन्यवाद ||

यह भी पढ़ें –

0Shares
Categories SEO

Hey Friends, I am Devendra Rawat. I am Blogger|| Hinditechdr.com Blog बनाने का मेरा यही मकसद है कि Hindi Readers को Blogging, SEO, Internet आदि की सटीक जानकारी हिंदी भाषा में प्रदान करा सकूँ. मेरे Blog पर आने के लिए धन्यवाद ||

2 thoughts on “What is Backlink in Hindi : बैक लिंक क्या होते हैं”

Leave a Comment