SEO में लिंक जूस क्या है, और इसे कैसे बढायें -What is Link Juice in Hindi

SEO में जब भी बैकलिंक की बात आती है तो Link Juice की चर्चा जरुर होती है. पर क्या आप जानते हैं आखिर यह Link Juice Kya Hai (What is Link Juice in Hindi)? किसी भी वेबसाइट की रैंकिंग में यह महत्वपूर्ण कैसे होता है? और लिंक जूस कैसे मिलता है ?

अगर आप ऊपर पूछे गए सवालों का जवाब नहीं जानते हैं और लिंक जूस के बारे में पूरी जानकारी चाहते हैं तो इस लेख को पूरा अंत तक पढ़िए क्योंकि इसमें मैंने आपको लिंक जूस को बहुत ही आसान शब्दों में बताया है जिससे कि आपके मन में कोई संशय न रहे.

तो चलिए आपका अधिक समय ना लेते हुए शुरू करते हैं इस लेख को और जानते हैं लिंक जूस क्या है विस्तार से.

जब भी आपकी वेबसाइट को किसी अन्य वेबसाइट से एक Do Follow Backlink मिलता है, तो इस बैकलिंक के द्वारा आपकी वेबसाइट को कुछ Value मिलती है. Do Follow Backlink के द्वारा वेबसाइट को मिली वैल्यू को ही SEO की Language में Link Juice कहते हैं.

बैकलिंक पर No follow का टैग लगाने से लिंक जूस को पास करना बंद किया जाता है. केवल Do Follow Backlink के द्वारा ही लिंक जूस मिलता है.

किसी वेबसाइट को Do Follow Backlink के द्वारा मिली Value को SEO में Link Juice कहा जाता है.

लिंक जूस मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं –

जब आप अपने किसी एक वेबपेज में अपने दुसरे वेबपेज को लिंक करते हैं तो जो लिंक जूस पास होता है उसे Internal Link Juice कहते हैं. Internal linking करके आप अपने वेबपेज के लिए लिंक जूस की value को बढ़ा सकते हैं.

जब आप अपने वेबसाइट या वेबपेज में किसी दुसरे वेबसाइट या उसके वेबपेज को Do follow link देते हैं तो इसमें Pass होने वाले लिंक जूस को External Link Juice कहते हैं.

कई लोग External Link और Backlink में बहुत Confuse होते हैं पर यह दोनों एक ही चीज हैं, एक उदाहरण से इसे समझते हैं. माना कोई वेबसाइट A है जिस पर किसी दूसरी वेबसाइट B का लिंक है. अब वेबसाइट A के लिए यह External Link होगा और वेबसाइट B के लिए यह एक Backlink होगा.

अब तक हम लगभग जान गए हैं कि लिंक जूस क्या होता है, अब जानेंगे कि लिंक जूस को बनाते कैसे हैं. लिंक जूस बनाने के तीन प्रमुख तरीके हैं. चलिए इन्हें भी देख लेते हैं.

Direct Link Building उस विधि को कहते हैं जिसमे हम खुद से Do follow बैकलिंक बनाते हैं. जैसे गेस्ट पोस्ट, आर्टिकल सबमिशन, प्रोफाइल सबमिशन आदि. इसे Link Building कहा जाता है.

अनेक सारी ऐसी वेबसाइट हैं जो आसानी से Do follow बैकलिंक देती हैं, और कुछ वेबसाइट तो कमेंट के द्वारा भी Do follow बैकलिंक देती है. आप ऐसी वेबसाइटों को खोजकर यहाँ बैकलिंक बना सकते हैं और Link Juice प्राप्त कर सकते हैं.

Indirect Link Building उस विधि को कहते हैं जिसमे हम खुद से कोई लिंक नहीं बनाते हैं बल्कि अन्य लोग जिन्हें हमारा Content पसंद आता है, वह हमारे कंटेंट को अपने वेबपेज में लिंक करते हैं और हमारे लिए बैकलिंक बनाते हैं. इसे Link Earning भी कहा जाता है.

अगर आप पूरी रिसर्च के साथ एक ऐसा कंटेंट लिखते हैं जो लिंक करने लायक है तो है आप अनेक Link Earn कर सकते हैं. ऐसे बैकलिंक के द्वारा रैंकिंग बहुत जल्दी Boost होती है क्योंकि इससे गूगल को सिग्नल जाता है कि इस वेबपेज पर उपयोगी कंटेंट है.

3 – Internal Linking

लिंक जूस प्राप्त करने का सबसे Powerful तरीका है Internal Linking. आप खुद अपने ब्लॉग पोस्ट में दुसरे पोस्ट को लिंक करके अधिक लिंक जूस बना सकते हैं और सर्च इंजन रिजल्ट पेज में अच्छी रैंकिंग प्राप्त कर सकते हैं.

SEO में लिंक जूस काम कैसे करता है?

SEO में लिंक जूस की Value को समझना काफी आसान है, आप यहाँ पर आर्टिकल को अधिक ध्यान देकर पढ़ें.

माना कोई दो वेबसाइट हैं A.com और B.com, दोनों ने एक ही कीवर्ड पर आर्टिकल लिखा है. उन दोनों वेबसाइट पर कंटेंट भी Valuable है और दोनों ने On Page SEO भी अच्छे से किया है.

पर अगर वेबसाइट A.com ने उस वेबपेज के लिए वेबसाइट B.com की तुलना में अधिक लिंक जूस जमा किया है तो, वेबसाइट A.com को B.com से अच्छी रैंकिंग मिलेगी, क्योंकि A.com के कंटेंट को अधिक वेबसाइटों ने Do Follow लिंक किया है और उसके पास लिंक जूस भी अधिक है.

सर्च इंजन जो Matrix समझते हैं वह Link Juice ही होता है. इसलिए जिस वेबसाइट ने अधिक लिंक जूस जमा किया है उसकी रैंकिंग भी अच्छी होगी. High Competition कीवर्ड पर वेबसाइट को रैंक करवाने के लिए Link Juice या कहें High Authority वेबसाइट से प्राप्त Do Follow Backlink भी एक महत्वपूर्ण फैक्टर है.

ज्यादा लिंक बनाने से अधिक लिंक जूस मिलेगा?

अब एक सवाल आपके मन में आ रहा होगा कि ज्यादा लिंक बनाने से अधिक लिंक जूस मिलेगा? इसका जवाब समझने के लिए हम उन्हीं दो वेबसाइट A.com और B.com

माना वेबसाइट A.com को 4 वेबसाइट से बैकलिंक मिला है और उन सभी की अथॉरिटी 70 है, और वेबसाइट B को 5 वेबसाइटों से बैकलिंक मिले हैं और उनकी अथॉरिटी 20 की है. अब इनको कैलकुलेट करें तो A.com के पास 140 का लिंक जूस है जबकि B.com के पास 100 का ही लिंक जूस है. तो वेबसाइट A.com के पास अधिक लिंक जूस है.

इसका मतलब हुआ कि जिस वेबसाइट के पास जितने Quality Backlink होंगे उसके पास अधिक लिंक जूस होगा. इसलिए आपको हमेशा Quality of Backlink पर फोकस करना चाहिए ना कि Quantity of Backlink पर.

अभी तक हमने Link Juice Kya Hai के बारे में जाना. अब जानते हैं लिंक की value कब अधिक होती है और कब कम.

1 – अगर किसी वेबसाइट को लिंक किसी दूसरी वेबसाइट के होमपेज पर मिलता है तो उस लिंक की value सबसे अधिक होगी, केटेगरी पेज पर मिलने वाले लिंक की value उससे कम और आर्टिकल पर मिलने वाले लिंक की value सबसे कम होती है.

2 – लिंक अगर आर्टिकल के टॉप में है तो उसकी value अधिक होती है इसी प्रकार यह क्रम चलता है और कंटेंट के अंतिम में लिंक की value सबसे कम होती है.

3 – एक ही वेबसाइट से दो या उससे अधिक बार लिंक मिलता है तो उस लिंक की value कम होती है, अगर ऐसी वेबसाइट से लिंक मिलता है जहाँ से पहले लिंक न मिला हो तो उस लिंक की value अधिक होती है.

4 – अगर आपकी वेबसाइट को ऐसी वेबसाइट से लिंक मिलता है जिसे पहले से ही अथॉरिटी वेबसाइट से लिंक मिला हो तो ऐसे लिंक की value भी अधिक होती है.

5 – अगर लिंक एक ऐसे वेबपेज से मिला हो जो नियमित रूप से अपडेट होता है तो उसकी value अधिक होगी. अगर ऐसे वेबपेज से लिंक मिलता है जो कभी – कभी या बहुत कम अपडेट होता है तो उस लिंक की value भी कम होती है.

6 – Internal Link की तुलना में External Link अधिक value प्रदान करते हैं.

Q – लिंक जूस क्या होता है?

Link Juice वह Value होती है जो किसी वेबपेज को दुसरे वेबपेज से लिंक के द्वारा मिलती है.

Q – लिंक जूस क्या बताता है?

लिंक जूस यह बताता है कि किसी वेबसाइट को जो बैकलिंक मिले हैं वह कितने Powerful हैं.

यह लेख भी पढ़ें –

तो दोस्तों यह थी What is Link Juice in Hindi के बारे में पूरी जानकारी, मैंने पूरी कोशिस की है कि इस आर्टिकल में आपको Link Juice Kya Hai से जुडी सभी जानकारी प्रदान करवा सकूँ. जिससे आपको Same Information के लिए किसी दुसरे आर्टिकल पर जाने की जरुरत ना पड़ें.

उम्मीद करता हूँ आपको यह लेख जरुर पसंद आया होगा और इस लेख से कुछ न कुछ आपको सीखने को जरुर मिला होगा. अगर अभी भी आपके मन में Link Juice को लेकर कोई सवाल है तो आप नीचे कमेन्ट बॉक्स में पूछ सकते हैं. और अंतिम में आपसे निवेदन करूँगा कि इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें.

लेख को अंत तक पढने के लिए धन्यवाद||

0Shares
Categories SEO

Hey Friends, I am Devendra Rawat. I am Blogger|| Hinditechdr.com Blog बनाने का मेरा यही मकसद है कि Hindi Readers को Blogging, SEO, Internet आदि की सटीक जानकारी हिंदी भाषा में प्रदान करा सकूँ. मेरे Blog पर आने के लिए धन्यवाद ||

Leave a Comment