नए वेबसाइट या Blog को Rank होने में कितना Time लगता है?

दोस्तों SEO में Field में एक Question बहुत अधिक बार पूछा जाता है कि Blog को Rank होने में कितना Time लगता है? चाहे आप एक ब्लॉगर हैं या SEO Person, इस सवाल का सामना कभी ना कभी आपको जरुर करना पड़ा होगा.

एक ब्लॉगर जब नया ब्लॉग पोस्ट लिखता है तो वह अपने कीवर्ड को बार – बार सर्च करके देखता है कि उसका ब्लॉग कौन सी Position में रैंक कर रहा है. वहीं दूसरी ओर एक SEO Person को तो कई बार यह सवाल पूछा जाता है, जब वह किसी क्लाइंट का प्रोजेक्ट लेता है या फिर किसी SEO एजेंसी में काम करता है तो क्लाइंट SEO का काम देने से पहले यह जरुर पूछता है कि आप कितने समय में वेबसाइट को रैंक करवा दोगे.

मैं खुद SEO की सर्विस देता हूँ, इसलिए मुझे भी दिन – भर कई लोगों को इस सवाल का जवाब देना पड़ता है. मैंने सोचा क्यों ना आज आपको भी इस सवाल का जवाब दे दूँ.

अगर आप जानना चाहते हैं Blog को Rank होने में कितना Time लगता है तो इस लेख को पूरा अंत तक जरुर पढ़ें. तो चलिए आपका अधिक समय ना लेते हुए शुरू करते हैं इस लेख को.

Blog को Rank होने में कितना Time लगता है

एक ब्लॉग को गूगल में रैंक करने में लगने वाला समय बहुत कुछ फैक्टर पर निर्भर करता है. इस प्रश्न का कोई भी सटीक जवाब नहीं दे सकता है कि ब्लॉग कितने समय में रैंक होगा. बड़ा से बड़ा SEO एक्सपर्ट के पास भी इस सवाल का जवाब नहीं होता है.

किसी भी ब्लॉग या वेबसाइट को गूगल अपने अल्गोरिथम के आधार पर रैंक करवाता है. गूगल के पास 200 से भी अधिक रैंकिंग फैक्टर मौजूद हैं जिनके द्वारा वह किसी भी वेबसाइट को रैंकिंग देता है, और यह सभी फैक्टर पूरी तरह से केवल गूगल को पता है. यहाँ पर एक ध्यान देने वाली बात यह भी है कि ये अल्गोरिथम हमेशा Constant नहीं रहते हैं, इनमें लगातार बदलाव होते रहता है. समय – समय पर SEO की नयी – नयी अपडेट आते रहती है.

SEO की फील्ड इतनी Dynamic है कि इसमें बहुत तेजी से परिवर्तन होता है, यानि कोई वेबसाइट अभी पहले नंबर पर रैंक कर रही है तो जरुरी नहीं है कि वह 1 दिन बाद भी पहले नंबर पर ही रहेगी. यहाँ 1 दिन भी बहुत बड़ी बात है 1 सेकंड में भी सर्च इंजन रिजल्ट पेज में बदलाव होते रहते हैं.

सीधे शब्दों में कहूँ तो Blog को Rank होने में कितना Time लगता है?, इस प्रश्न का कोई निश्चित जवाब नहीं है, या कहें तो इस प्रश्न का कोई सटीक जवाब ही नहीं है. बहुत सारे फैक्टर होते हैं जो यह Decide करते हैं कि आपकी वेबसाइट को रैंक करने में कितना टाइम लगेगा. जैसे On Page SEO, Off Page SEO, डोमेन ऐज, कीवर्ड आदि.

लेकिन फिर भी हम कुछ रिसर्च के आधार पर समझने की कोशिस करेंगे कि गूगल कितने टाइम में किसी ब्लॉग को रैंकिंग देता है. तो चलिए समझते हैं कौन से हैं वे फैक्टर.

#1 – Domain Age (डोमेन नाम कितना पुराना है)

वेबसाइट को रैंक होने में लगने वाला समय वेबसाइट के Domain Age पर निर्भर करता है. Ahrefs जो कि डिजिटल मार्केटिंग इंडस्ट्री में सबसे बड़ी कंपनियों में से एक है, ने 2 बिलियन Random Keyword को Check किया और उन्होंने पाया जो वेबसाइट Top 10 में रैंक कर रही हैं उनकी Domain Age लगभग 2 साल की है. और जो वेबसाइट पहले नंबर पर रैंक कर रही हैं उनकी Domain Age लगभग 3 साल या इससे अधिक है.

Ahrefs की इस Study के आधार पर देखा जाये तो वेबसाइट की रैंकिंग में Domain Age एक महत्वपूर्ण फैक्टर है. Domain Age के अलावा भी अनेक फैक्टर भी हैं जो वेबसाइट के रैंक होने में लगने वाले समय का निर्धारण करते हैं.

#2 – Keyword Difficulty (कीवर्ड पर कितना Competition है)

Keyword Difficulty SEO के द्वारा वेबसाइट को रैंक करने में एक महत्वपूर्ण फैक्टर है. अगर आप ऐसे कीवर्ड पर काम कर रहे हैं जिनमें बहुत कम Competition है या बिल्कुल भी Competition नहीं है तो इस Case में आप 2 या 3 महीने के अन्दर वेबसाइट को रैंक करवा सकते हैं.

लेकिन अगर आप ऐसे कीवर्ड पर काम कर रहे हैं जिनमें बहुत High Competition है, और पहले से ही अनेक सारी High Authority वेबसाइट SEO के द्वारा उस कीवर्ड पर रैंक कर रही हैं तो इस Case में आपको 2 साल या इससे भी ज्यादा का समय लग सकता है अपनी वेबसाइट को रैंक करवाने में. इसलिए आपको हमेशा Keyword Research करके ही ब्लॉग में आर्टिकल लिखने चाहिए.

#3 – Your Competitor (आपके प्रतियोगी कौन हैं)

जिस कीवर्ड पर आप अपने वेबसाइट को रैंक करवाना चाहते हैं उस कीवर्ड को गूगल पर सर्च करें, और देखें कि कौन – कौन सी वेबसाइट उस कीवर्ड पर रैंक कर रही हैं. आप Top 5 या Top 10 वेबसाइट को Analyze करके देखें कि उन्होंने कैसे आर्टिकल लिखा है, उनकी Domain Age कितनी है, Backlink कहाँ से बनायें आदि.

अगर आपके प्रतियोगी बहुत स्ट्रोंग हैं यानि उन्होंने अपने वेबसाइट पर बहुत ही अच्छी तरह से On Page SEO किया है, Quality कंटेंट लिखा है, Quality Backlink बनायें है, उनका Technical SEO एकदम Perfect है और वह एक High Authority वेबसाइट है तो ऐसी वेबसाइट को Beat करने में आपको अधिक समय लग सकता है.

लेकिन जिस कीवर्ड पर आप रैंक करना चाहते हैं उस पर ऐसी वेबसाइटें रैंक कर रही हैं जो ज्यादा पुरानी नहीं है, और उनका कंटेंट ज्यादा सही नहीं है और उनका SEO भी ज्यादा अच्छा नहीं है तो आप एक बढ़िया Quality Content लिखकर तथा थोड़े बहुत SEO Effort के द्वारा उन वेबसाइट को beat कर सकते हैं और उस Particular कीवर्ड पर अपनी वेबसाइट को रैंक करवा सकते हैं.

#4 – SEO Skill (आपकी स्किल)

Last but not Least, वेबसाइट की रैंकिंग में आपकी स्किल भी बहुत मायने रखती है. अगर आपको SEO करना ही नहीं आता है, आपको Backlink बनाने नहीं आते हैं तो इस Case में शायद ही आप अपनी वेबसाइट को रैंक करवा सकते हैं. इसलिए आपके पास SEO स्किल भी होनी चाहिए.

अगर एक Method का इस्तेमाल करके आपकी वेबसाइट रैंक नहीं हो रही है तो आपको कुछ दुसरे Method का इस्तेमाल करना पड़ता है, अच्छी वेबसाइटों से High Quality बैकलिंक बनाने होंगे. इन सब कामों के लिए स्किल की ही जरुरत पड़ती है.

इसके अलावा भी अनेक सारे फैक्टर हो सकते हैं जो वेबसाइट के रैंक होने में लगने वाले समय को निर्धारित करते हैं, लेकिन यह कुछ बेसिक फैक्टर थे. तो शायद अब आपको अपने सवाल का जवाब मिल गया होगा कि Blog को Rank होने में कितना Time लगता है?

हिंदी ब्लॉग को रैंक होने में कितना समय लगता है?

अगर आप मेरी यह पोस्ट पढ़ रहे हैं तो इस बात की संभावना अधिक है कि आप एक हिंदी ब्लॉगर हैं. इसलिए मैंने इस आर्टिकल में खास हिंदी ब्लॉग को रैंक करने में लगने वाले समय को अलग से बताया है.

जब हिंदी Blogging की शुरुवात हुई थी लगभग 2010 – 11 के समय पर तो उस समय हिंदी भाषा में बहुत कम ही ब्लॉग लिखे गए थे इसलिए हिंदी ब्लॉग को बहुत कम समय में अच्छी रैंकिंग मिल जाती थी.

लेकिन आज के समय में हिंदी ब्लॉग्गिंग के क्षेत्र में बहुत अधिक Competition बढ़ गया है, हर दिन अनेक सारे नए ब्लॉग पब्लिश किये जा रहे हैं, लेकिन फिर भी हिंदी ब्लॉग को रैंक करवाने में इंग्लिश ब्लॉग की अपेक्षा में कम समय लगता है. अगर आप नियमित रूप से कंटेंट पब्लिश करते हैं और ब्लॉग का SEO अच्छी तरह से करते हैं तो आप 4 से 6 महीने के अन्दर अपने ब्लॉग को रैंक करवा सकते हैं.

यह लेख भी पढ़ें –

अंतिम राय

अगर आप ब्लॉगर है तो आपको शुरुवात में Low Competition कीवर्ड पर काम करना चाहिए, इससे आपका ब्लॉग कम समय में रैंक हो जायेगा. इसके साथ ही आप High Quality कंटेंट पब्लिश करें, अगर लोग आपके कंटेंट को पसंद करेंगे और आपकी वेबसाइट पर रुकेंगे तो आपको इसका फायदा रैंकिंग में मिलता है.

और यदि आप SEO सर्विस देते हैं तो आपको कभी भी शुरुवात में क्लाइंट से इस बात का Commitment नहीं करना चाहिए कि मैं 3 महीने या 6 महीने में आपकी वेबसाइट को रैंक करवा दूंगा, क्लाइंट को इस सवाल का जवाब पूरी रिसर्च और Analysis करने के बाद ही दें.

तो इस लेख में हमने जाना कि Blog को Rank होने में कितना Time लगता है, अगर अभी भी आपके मन में इस लेख से सम्बंधित कोई भी प्रश्न हैं तो आप मुझे नीचे कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं, मैं जल्दी ही आपके सवाल का जवाब दूंगा.

लेख को अंत तक पढने के लिए धन्यवाद||

0Shares

Hey Friends, I am Devendra Rawat. I am Blogger|| Hinditechdr.com Blog बनाने का मेरा यही मकसद है कि Hindi Readers को Blogging, SEO, Internet आदि की सटीक जानकारी हिंदी भाषा में प्रदान करा सकूँ. मेरे Blog पर आने के लिए धन्यवाद ||

Leave a Comment