SEO Audit Kaise Kare? SEO Audit Checklist हिंदी में

आज के इस ब्लॉग पोस्ट के माध्यम से मैं आपको SEO Audit Kaise Kare की पूरी जानकारी देने वाला हूँ, और साथ में ही इस आर्टिकल में आपको SEO Audit Checklist भी मिल जायेगी जिनके द्वारा आपको अपनी वेबसाइट का SEO ऑडिट करने में आसानी होगी.

अगर आप भी अपने ब्लॉग या वेबसाइट के SEO को Improve करना चाहते हैं तो आपको महीने में कम से कम 2 बार SEO Audit जरुर करना चाहिए और Negative SEO को Remove करना चाहिए. क्योंकि Negative SEO से आपकी वेबसाइट के रैंकिंग में नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है.

तो चलिए बिना समय गंवाएं शुरू करते हैं इस लेख को और सबसे पहले जानते हैं SEO Audit क्या है.

SEO ऑडिट क्या है (What is SEO Audit in Hindi)

किसी भी वेबसाइट के Complete SEO का निरीक्षण करना और फिर उसमें से Negative SEO को Remove करना या वेबसाइट के SEO को और अधिक Improve करना SEO ऑडिट कहलाता है. SEO ऑडिट के द्वारा आप अपनी वेबसाइट के रैंकिंग को नया Boost दे सकते हैं जिससे आपकी वेबसाइट सर्च इंजन में अच्छा Perform करेगी.

SEO ऑडिट कैसे करें (SEO Audit Checklist in Hindi)

इस लेख में आगे हमने आपको SEO Audit Checklist प्रदान करवाई है, इसमें बताये गए हर एक स्टेप को फॉलो करके आप अपने वेबसाइट के SEO में सुधार कर सकते हैं और अपनी रैंकिंग को Boost कर सकते हैं. तो आइये स्टेप वाइज जानते हैं SEO ऑडिट के सभी पॉइंट.

#1 – वेबसाइट को मोबाइल फ्रेंडली बनायें

आज के समय में अधिकतर यूजर मोबाइल के द्वारा ही इन्टरनेट का इस्तेमाल करते हैं, इसलिए आपकी वेबसाइट का Mobile Responsive होना बहुत जरुरी है. यदि आपकी वेबसाइट मोबाइल फ्रेंडली नहीं है तो आप अपने 60 प्रतिशत विजिटर खो सकते हैं.

वेबसाइट का मोबाइल फ्रेंडली या मोबाइल responsive होने का मतलब यह है कि आपकी वेबसाइट मोबाइल में भी उसी प्रकार से खुले जिस प्रकार से डेस्कटॉप या लैपटॉप में ओपन होती है.

अब सवाल यह आता है कि आप कैसे अपनी वेबसाइट को मोबाइल फ्रेंडली बना सकते हैं? तो इसका जवाब है आप एक Responsive Theme का इस्तेमाल करें. यदि आपकी वेबसाइट WordPress पर है तो आप GeneratePress जैसी लाइटवेट और मोबाइल फ्रेंडली थीम का इस्तेमाल कर सकते हैं.

आपकी वेबसाइट मोबाइल फ्रेंडली है कि नहीं यह पता करने के लिए आप गूगल के Mobile Friendly Test Tool का इस्तेमाल कर सकते हैं.

इस टूल को ओपन करने के बार URL वाले सेक्शन में अपनी वेबसाइट का URL इंटर करें और Test URL वाले बटन पर क्लिक करें. फिर यह टूल आपको बता देगा कि आपकी वेबसाइट मोबाइल फ्रेंडली है कि नहीं, तथा जो error हैं उन्हें भी स्क्रीन पर दिखा देगा.

Mobile Friendly Test

#2 – वेबसाइट के Indexing Problem को फिक्स करें

किसी वेबसाइट के वेबपेज का सर्च इंजन (गूगल) में रैंक करने से पहले उसका सर्च इंजन में Index होना जरुरी है, क्योंकि गूगल उन्हीं वेबपेज को रैंक करवाता है जो Index रहते हैं.

आप गूगल सर्च कंसोल के Coverage वाले सेक्शन से उन सभी वेबपेजों की list को निकाल सकते हैं जो अभी तक Index नहीं हुए. आपको वेबपेज के index नहीं होने के कारण पता करना है और उनके Indexing issue को फिक्स करना है.

#3 – वेबसाइट की स्पीड फ़ास्ट करें

2022 में वेबसाइट को रैंक करवाने के लिए लोडिंग स्पीड एक महत्वपूर्ण फैक्टर है, यदि आपकी वेबसाइट लोड होने में 6 – 7 सेकंड का समय लेती है तो आपकी रैंकिंग डाउन हो जायेगी. क्योंकि इन्टरनेट की दुनिया में 6 – 7 सेकंड का समय बहुत अधिक होता है. आपने खुद ही Notice किया होगा YouTube पर एक 5 मिनट की Ad भी कितनी लम्बी लगती है.

आप अपनी वेबसाइट को ऑप्टिमाइज़ करें, तथा Wp Rocket जैसे Cache प्लगइन का इस्तेमाल करें. यदि आपकी वेबसाइट Well Optimize है तो Wp Rocket आपकी वेबसाइट की स्पीड को कई हद तक बढ़ाने में सक्षम है.

वेबसाइट की स्पीड Check करने के लिए आप दो सबसे बेस्ट टूल का इस्तेमाल कर सकते हैं –

ये दोनों टूल आपको बता देते हैं कि किस कारण आपकी वेबसाइट की लोडिंग स्पीड अधिक हो रही है, और आप कैसे अपनी वेबसाइट की स्पीड को फ़ास्ट कर सकते हैं.

#4 – वेबसाइट का On Page SEO Improve करें

ब्लॉग या वेबसाइट का On Page SEO पूरी तरह से आपके हाथ में होता है, आप जितने अच्छे से On Page SEO करेंगे उतनी ही आपके वेबसाइट की सर्च इंजन में रैंक करने की संभावना बढ़ जाती है.

कई सारे SEO एक्सपर्ट On Page SEO को रैंकिंग में सबसे Important फैक्टर मानते हैं, और यह है भी. On Page SEO के द्वारा आप अपने वेबपेज के बारे में सर्च इंजन क्रॉलर को अच्छे से समझा सकते है.

On Page SEO करना कोई भी कठिन काम नहीं है, आप नीचे दिए गए पॉइंट को फॉलो करके On Page SEO कर सकते हैं –

  • टाइटल में कीवर्ड का इस्तेमाल करें
  • ब्लॉग पोस्ट के पहले 100 शब्दों में कीवर्ड का इस्तेमाल करें.
  • एक 1000 शब्दों के पोस्ट में कम से कम 7 इंटरनल लिंक करें, आप अधिक भी कर सकते हैं.
  • ब्लॉग पोस्ट में जरुरत पड़ने पर एक्सटर्नल लिंक का इस्तेमाल करें.
  • URL में फोकस कीवर्ड का इस्तेमाल करें.
  • Image में Alt text का इस्तेमाल करें.
  • LSI कीवर्ड का इस्तेमाल करें.

चलिए अब बढ़ते हैं SEO Audit Kaise Kare के पॉइंट नंबर 5 की ओर.

#5 – बैकलिंक Analyze करें

Backlink वेबसाइट की रैंकिंग को Improve करने के लिए अभी भी Important फैक्टर हैं, इसलिए आपको अपने वेबसाइट की Backlink Profile को भी Analyze करना है. Backlink को Analyze करने के लिए आपको टूल की जरुरत पड़ती है.

मैं Backlink Profile को analyze करने के लिए ahrefs का इस्तेमाल करता हूँ, यह एक all in one SEO टूल है, लेकिन यह एक Paid टूल है. लेकिन इसके अलावा भी अनेक सारे फ्री टूल Available हैं, आप थोड़ी बहुत रिसर्च करने पर इन्हें Find कर सकते हैं.

Backlink Profile में आप निम्नलिखित चीजों को Analyze कर सकते हैं.

  • Referring Domain को चेक करें कि कितने डोमेन से आपको backlink मिली है,
  • लिंक टाइप चेक करें कि लिंक Dofollow है या Nofollow,
  • किस Anchor Text पर ज्यादा बैकलिंक मिले हैं आदि. आप backlink से जुडी अन्य चीजों को भी Check करके अपने वेबसाइट की पूरी लिंक प्रोफाइल को analyze करें.

अगर आपकी वेबसाइट में कुछ Spammy बैकलिंक बन गयी हैं तो उनको आप Google Disavow Tool के द्वारा Disavow कर लीजिये, क्योंकि ये बैकलिंक आपके वेबसाइट के Spam Score को बढ़ा सकती हैं.

#6 – ब्रोकन लिंक फिक्स करें

जब आपकी वेबसाइट में कोई लिंक Break हो जाती है, यानि उस लिंक से सम्बंधित वेबपेज अब Exist नहीं करता है तो आपकी वेबसाइट पर एक ब्रोकन लिंक बन जाती है, और जब यूजर उस लिंक पर क्लिक करता है तो वह 404 के पेज में Redirect हो जाता है. गूगल ब्रोकन लिंक को बिल्कुल पसंद नहीं करता है, इसलिए ये लिंक आपकी वेबसाइट की रैंकिंग डाउन कर सकते हैं.

वेबसाइट में ब्रोकन लिंक Find करने के लिए आप Broken Link Checker Tool का इस्तेमाल कर सकते हैं. यह टूल बिल्कुल फ्री में आपकी वेबसाइट के सारे ब्रोकन लिंक को ढूंड कर बता देता है. इसके अलावा वर्डप्रेस ब्लॉग पर आप Broken Link Checker plugin को इनस्टॉल कर सकते हैं.

आप ब्रोकन लिंक को किसी सम्बंधित वेबपेज या होमपेज में 301 Redirect कर सकते हैं, और सभी ब्रोकन लिंक को फिक्स करके वेबसाइट की रैंकिंग Improve कर सकते हैं.

#7 – Organic ट्रैफिक Check करें

अब बारी आती है ब्लॉग के Organic Traffic को Check करने की. ब्लॉग का सटीक ऑर्गनिक ट्रैफिक चेक करने के लिए आपका ब्लॉग Google Analytics से कनेक्ट होना चाहिए.

Google Analytics में ब्लॉग का Organic ट्रैफिक चेक करने के लिए आप Acquisition वाले सेक्शन में All Traffic पर क्लिक करें और यहाँ पर Channel को सेलेक्ट करें. अब आप अपने ब्लॉग के सभी ट्रैफिक सोर्स को Check कर सकते हैं.

अब आपको हर महीने की Report Check करनी है कि पिछले महीने कितने विजिटर आपके ब्लॉग पर Organically आये थे और इस महीने कितने आये हैं. इस प्रकार से आप पिछले कुछ महीनों का ऑर्गनिक ट्रैफिक Check करें और देखें कि आपके Organic Traffic में कमी हो रही है या बढ़ोतरी.

यदि हर महीने आपका ऑर्गनिक ट्रैफिक बढ़ रहा है तो यह आपके लिए अच्छी बात है, लेकिन यदि आपका ऑर्गनिक ट्रैफिक कम हो रहा है तो आप कम होने के कारण का पता लगायें और उसके अनुसार अपने ब्लॉग में जरुरी बदलाव करें, जिससे कि आपके ऑर्गनिक ट्रैफिक में कमी ना हो.

#8 – कीवर्ड की रैंकिंग ट्रैक करें

अब समय है अपने कीवर्ड की सर्च इंजन रिजल्ट पेज में पोजीशन को ट्रैक करने की.

अगर आप गूगल में Keyword Rank Tracker लिखकर सर्च करेंगे तो आपको ढेर सारे टूल मिल जायेंगे. लेकिन सभी टूल भरोसेमंद नहीं होते हैं. मैं ahrefs का इस्तेमाल करता हूँ कीवर्ड की ट्रैकिंग के लिए. अगर आपके पास बजट है तो आप भी ahref को Purchase कर सकते हैं और अपने सभी कीवर्ड की रैंकिंग को ट्रैक कर सकते हैं.

आपके जिन कीवर्ड की रैंकिंग डाउन हो रही है, आप उन पर काम करें और उनकी रैंकिंग को Improve करने की कोशिस करें. और जिन कीवर्ड की रैंकिंग Improve हुई है उनकी रैंकिंग बनाये रखने के लिए प्रयास करें.

#9 – कंटेंट को 10X बेहतर बनायें

यह तो आप सभी लोगों को पता होगा कि Content is King, यानि कि आपका कंटेंट ही राजा है. आप अपने कंटेंट को 10 गुना बेहतर बनायें, क्योंकि 2022 में वेबसाइट को रैंक करने के लिए Quality Content का होना जरुरी है.

आप Search Intent को समझकर कंटेंट बनायें, और ऐसा कंटेंट लिखें जिसे पढ़कर यूजर को अपने सभी सवालों का संतोषपूर्ण जवाब मिले. गूगल भी यही चाहता है, इसलिए गूगल User Experience को बेहतर बनाने के लिए अपने अल्गोरिथम में बदलाव करते रहता है.

इसके साथ ही अगर आप कंटेंट को पूरी रिसर्च के साथ लिखते हैं तो वेबमास्टर आपके कंटेंट को अपने ब्लॉग में लिंक भी करेंगे, इससे आपकी रैंकिंग Improve होगी.

#10 – Schema Markup का इस्तेमाल करें

अगर आप गूगल के Rich Snippet वाले सेक्शन में अपनी वेबसाइट को लाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको Schema Markup का इस्तेमाल करना होगा. Schema Markup वेबपेज को एक ऐसे Language में बदल देता है जिसे सर्च इंजन क्रॉलर आसानी से समझ जाते हैं.

अगर आपकी वेबसाइट Rich Snippet वाले सेक्शन में आ जाती है तो आपका CTR Increase होगा और साथ में ही आपके वेबसाइट पर ऑर्गनिक ट्रैफिक भी बढेगा. Schema Markup क्या है पर मैंने एक Detailed आर्टिकल लिखा है आप उसे पढ़कर स्कीमा मार्कअप के बारे में सीख सकते हैं.

SEO Audit करने के लिए टूल

वैसे मैंने आपको ऊपर लेख में पूरी SEO Audit Kaise Kare की प्रोसेस बता दी है, और साथ में हर एक पॉइंट के लिए आपको टूल भी Suggest किया है.

लेकिन अगर आप अपनी पूरी वेबसाइट का SEO ऑडिट एक साथ करना चाहते हैं तो इसके लिए कुछ टूल नीचे मैंने आपको Suggest किये हैं. जिनका इस्तेमाल आप फ्री में कर सकते हैं, बस आपको अपनी Gmail ID से एक अकाउंट बनाना है.

यह लेख भी पढ़ें

निष्कर्ष: SEO Audit Kaise Kare हिंदी में

आज के इस ब्लॉग पोस्ट में हमने जाना कि वेबसाइट का SEO Audit Kaise Kare तथा इस लेख में हमने आपको SEO ऑडिट की पूरी Checklist प्रदान की है जिनको फॉलो करके आप अपनी वेबसाइट का SEO ऑडिट आसानी से कर सकते हैं. इसके साथ ही हमने आपको SEO ऑडिट करने के कुछ टूल के बारे में भी बताया है.

उम्मीद करते हैं आपको यह लेख पसंद आया होगा, यदि इस लेख से जुड़े आपके कोई प्रश्न हैं तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं हम जल्दी ही आपके सवालों का जवाब देने की कोशिस करेंगे.

लेख को अंत तक पढने के लिए धन्यवाद||

0Shares
Categories SEO

Hey Friends, I am Devendra Rawat. I am Blogger|| Hinditechdr.com Blog बनाने का मेरा यही मकसद है कि Hindi Readers को Blogging, SEO, Internet आदि की सटीक जानकारी हिंदी भाषा में प्रदान करा सकूँ. मेरे Blog पर आने के लिए धन्यवाद ||

Leave a Comment