WordPress केटेगरी और टैग ने क्या अंतर हैं [Category vs Tag in Hindi]

WordPress Category vs Tag in Hindi : अनेक सारे शुरुवाती ब्लॉगर जो WordPress पर अपना ब्लॉग बना लेने के बाद पहली ब्लॉग पोस्ट लिखते हैं तो पोस्ट पब्लिश करते समय उनके पास दो ऑप्शन होते हैं एक Category और दूसरा Tag. इन दोनों के बीच अधिकांश ब्लॉगर को संशय रहता है इसलिए वे इन्टरनेट पर वर्डप्रेस केटेगरी और टैग के बीच अंतर को खोजते रहते हैं.

अगर हिंदी भाषा में बात की जाये तो आपको इस विषय पर बहुत कम ही आर्टिकल मिलेंगें, इसलिए मैंने सोचा क्यों ना आपको आज के इस आर्टिकल के माध्यम से वर्डप्रेस केटेगरी और टैग (Category vs Tag in Hindi) के बीच अंतर को स्पष्ट रूप से समझा सकूँ. इसके साथ ही आपको इस आर्टिकल को यह भी जानने को मिलेगा कि क्या केटेगरी और टैग से SEO रैंकिंग में Improvement होता है.

तो चलिए आपका अधिक समय लिए बिना शुरू करते हैं इस लेख को.

WordPress Category और Tag क्या है

WordPress केटेगरी और टैग के बीच अंतर जान लेने से पहले यह जानना आवश्यक है कि आखिर ये केटेगरी और टैग क्या होते हैं.

Category आपके Blog के एक प्रकार के पोस्ट के लिए व्यापक समूहीकरण है. केटेगरी hierarchical होती हैं यानि कि आप सब केटेगरी भी बना सकते हैं. यदि आप वर्डप्रेस में अपने किसी पोस्ट में केटेगरी नहीं देते हैं तो WordPress इसे By Default Uncategorized केटेगरी में add कर देता है.

जबकि Tag आपके ब्लॉग पोस्ट का विशिष्ट वर्णन करने के लिए होते हैं. टैग hierarchical नहीं होते हैं. अगर आप ब्लॉग पोस्ट में टैग नहीं देते हैं तो वर्डप्रेस इसे रिक्त ही रहने देता है, मतलब कि केटेगरी की तरह टैग में By Default कुछ भी add नहीं होता है.

वैसे देखा जाय तो वर्डप्रेस में केटेगरी और टैग का काम लगभग एक जैसा ही है जो आपके ब्लॉग के Content को व्यवस्थित करते हैं. चलिए एक उदाहरण से देखते हैं.

यदि आप कंप्यूटर पर एक ब्लॉग बना रहे हैं तो आप मोबाइल, टेबलेट, लैपटॉप आदि केटेगरी का इस्तेमाल कर सकते हैं. और टैग में कंपनियों के नाम, दाम आदि का इस्तेमाल कर सकते हैं. जैसे आप मोबाइल वाली केटेगरी में ब्लॉग पोस्ट लिख रहे हैं तो Samsung Mobile, Mobile Under 10K, best mobile आदि टैग का इस्तेमाल कर सकते हैं, इससे आपके Related पोस्ट में टैग से सम्बंधित पोस्ट यूजर को show होंगें.

वर्डप्रेस केटेगरी और टैग में अंतर (Category vs Tag in Hindi)

जैसा कि हमने उपर आपको बताया कि वर्डप्रेस में केटेगरी और टैग लगभग समान ही हैं जो कि आपके कंटेंट को व्यवस्थित करते हैं और यूजर को एक अच्छा अनुभव देते हैं. ब्लॉग पोस्ट को केटेगरी और टैग में add करने से यूजर अपने पसंद के अनुसार पोस्ट को एक्सेस कर सकते हैं. लेकिन इन दोनों में कुछ अंतर भी हैं. वर्डप्रेस केटेगरी और टैग के बीच अंतर को हमने नीचे table के द्वारा आपको बताया है.

Category (केटेगरी)Tag (टैग)
केटेगरी एक प्रकार की ब्लॉग पोस्ट के समूहीकरण के लिए होते हैं.टैग एक ब्लॉग पोस्ट के विशिष्ट वर्णन के लिए होते हैं.
वर्डप्रेस में केटेगरी hierarchical होती है.जबकि टैग hierarchical नहीं होते हैं.
पोस्ट को किसी केटेगरी में ना डालने पर वर्डप्रेस पोस्ट को By Default Uncategorized केटेगरी में add करता है.अगर आप पोस्ट में किसी टैग का इस्तेमाल नहीं करते हैं तो यह स्थान रिक्त रहेगा.
वर्डप्रेस पोस्ट को एक विशेष केटेगरी में add करना जरुरी होता है.वर्डप्रेस पोस्ट में टैग को add करना जरुरी नहीं होता है.
केटेगरी को अधिक महत्व दिया जाता है.टैग को केटेगरी की तुलना में कम महत्व दिया जाता है.
अधिकतर ब्लॉग में केटेगरी को show किया जाता है.अधिकांश ब्लॉग टैग को show नहीं करते हैं.
Category vs Tag in Hindi

WordPress पोस्ट में Categories और Tags कैसे जोड़ें?

जब आप WordPress में पोस्ट लिखते हैं या पोस्ट को एडिट करते हैं तो आपको दायीं तरफ Document Setting में Category और Tag का ऑप्शन मिल जायेगा. आप यहाँ से वर्डप्रेस में केटेगरी और टैग को जोड़ सकते हैं. (नीचे इमेज देखें)

WordPress Category and Tag

क्या केटेगरी और टैग का इस्तेमाल करने से SEO रैंकिंग में कोई लाभ मिलता है?

अगर इसका सीधा जवाब कहें तो नहीं, केटेगरी और टैग का इस्तेमाल करने से SEO रैंकिंग में कोई फायदा नहीं मिलता है.

हम ब्लॉग पोस्ट को केटेगरी और टैग में इसलिए add करते हैं ताकि यूजर को हमारी साईट पर नेविगेट करने में आसानी मिल सके और वह अपने पसंद के कंटेंट को आसानी से एक्सेस कर सकें. आपको अपने ब्लॉग के कंटेंट को व्यवस्थित करने के लिए केटेगरी और टैग दोनों का इस्तेमाल करना चाहिए.

अगर आप अपने ब्लॉग को यूजर को ध्यान में रखकर डिजाईन करते हैं तो वह अधिक देर तक ब्लॉग पर रहेगा और ब्लॉग के अलग – अलग वेबपेजों को एक्सेस करेगा इससे आपको कहीं ना कहीं Indirect तरीके से SEO रैंकिंग में फायदा मिलेगा.

ब्लॉग पोस्ट में कितनी केटेगरी add करें?

वर्डप्रेस आपको एक पोस्ट को कई केटेगरी में रखने की सुविधा देता है. आप एक Main Category की कई Sub Category बनाकर भी पोस्ट को कई केटेगरी में add कर सकते हैं.

लेकिन पोस्ट को कई केटेगरी में add करने से आपको कोई फायदा नहीं मिलने वाला है. इस बात की भी संभावना रहती है कि पोस्ट को कई केटेगरी में add करने से Duplicate Content की समस्या आ सकती है.

वैसे आप कोशिस करें कि एक पोस्ट को एक ही केटेगरी में add करें या फिर आप 2 या 3 केटेगरी भी दे सकते हैं. लेकिन आपको इस बात का भी ध्यान देना चाहिए कि एक पोस्ट को कभी भी दो या दो से अधिक Main Category (यानि जिसमें सबकेटेगरी हों) में add ना करें.

ब्लॉग पोस्ट में कितने टैग का इस्तेमाल कर सकते हैं?

केटेगरी की भांति ही आप एक ब्लॉग पोस्ट में 1000 या इससे अधिक टैग का इस्तेमाल कर सकते हैं. लेकिन हम कभी भी आपको इसका सुझाव नहीं देंगें.

टैग ब्लॉग के related पोस्ट को एक साथ जोड़ने में मदद करता है और प्रत्येक टैग एक कीवर्ड की तरह है. टैग का उपयोग इसलिए किया जाता है ताकि यह पता कर सकें कि एक जैसे पोस्ट से Related कौन – कौन से पोस्ट हैं. आपको प्रतिपोस्ट अधिकतम 10 टैग का ही इस्तेमाल करना चाहिए.

यह लेख भी पढ़ें

अंतिम शब्द: वर्डप्रेस केटेगरी और टैग में अंतर

हम उम्मीद करते हैं कि इस आर्टिकल से आपको WordPress केटेगरी और टैग (Category vs Tag in Hindi) को समझने में मदद मिली होगी और इस पोस्ट को पढ़कर आप यह भी समझ गए होंगें कि वर्डप्रेस केटेगरी और टैग में क्या अंतर हैं. अगर आपको यह लेख पसंद आया तो इसे सोशल मीडिया के द्वारा अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें और उन्हें भी वर्डप्रेस को समझने में मदद करें.

0Shares

Hey Friends, I am Devendra Rawat. I am Blogger|| Hinditechdr.com Blog बनाने का मेरा यही मकसद है कि Hindi Readers को Blogging, SEO, Internet आदि की सटीक जानकारी हिंदी भाषा में प्रदान करा सकूँ. मेरे Blog पर आने के लिए धन्यवाद ||

Leave a Comment