Copywriting Kya Hai, कैसे करें और इसका इस्तेमाल कहाँ किया जाता है?

हेलो दोस्तों स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग Hindi Tech DR के एक नए ब्लॉग पोस्ट में जिसमें हम बात करेंगें Copywriting Kya Hai? कॉपीराइटर कौन होते हैं? कॉपीराइटिंग कैसे की जाती है? कॉपीराइटिंग का इस्तेमाल कहाँ किया जाता है? तथा Copywriting और Content Writing में क्या अंतर है?

कॉपीराइटिंग ऐसी प्रोसेस होती है जिसके द्वारा कंपनियां अपने प्रमोशनल मटेरियल में ऐसे प्रेरक शब्द लिखते हैं जो लोगों को विशिष्ट कारवाही करने के लिए प्रेरित करते हैं. हर एक कंपनी अपने मैसेज को लक्षित ऑडियंस तक पहुँचाने के लिए कॉपीराइटिंग का इस्तेमाल करती है.

अनेक सारे लोगों को Copywriting के बारे में सही जानकारी नहीं होती है, अगर आपको भी कॉपीराइटिंग के बारे में जानकारी नहीं तो इस आर्टिकल को पूरा अंत तक जरुर पढ़ें. तो चलिए आपका अधिक समय लिए बिना शुरू करते हैं इस आर्टिकल को और जानते हैं कॉपीराइटिंग क्या होती है.

कॉपीराइटिंग क्या होती है (What is Copywriting)?

Copywriting विज्ञापनों और मार्केटिंग में प्रेरक शब्द लिखने की प्रकिया है जो लोगों को विशिष्ट एक्शन लेने के लिए प्रेरित करती है. यह एक्शन कुछ भी हो सकता है जैसे खरीददारी करना, लिंक पर क्लिक करना, ईमेल फॉर्म भरना, किसी कारण के लिए दान करना इत्यादि.

Copywriting ऑनलाइन मार्केटिंग में एक बहुत ही महत्वपूर्ण Element हैं. आप ऑनलाइन फेसबुक या गूगल पर कई सारे विज्ञापन देखते होंगें. इन विज्ञापनों में विज्ञापनप्रदाता कुछ लाइनों में ऐसे प्रेरक शब्द लिखते हैं जो आपको कुछ विशिष्ट कारवाही करने के लिए प्रेरित करती है. इन विज्ञापनों के शब्द कॉपीराइटिंग का उदाहरण है.

विज्ञापनप्रदाताओं को अपने मार्केटिंग उद्देश्यों को पूरा करने के लिए कॉपीराइटिंग की जरुरत पड़ती है. Copywriting में शब्दों को कुछ इस तरह से लिखा जाता है कि पढने वाला उन शब्दों में इस्तेमाल Call to Action के अनुसार एक्शन लेने के लिए प्रेरित हो सके.

कॉपीराइटिंग शब्दों की ताकत है जिसमें शब्दों की कॉपी को कुछ इस प्रकार से तैयार किया जाता है जो लक्षित ऑडियंस को एक्शन लेने को मजबूर करती है.

कॉपीराइटर कौन होता है?

जो व्यक्ति कॉपीराइटिंग करता है उसे Copywriter कहते हैं. कॉपीराइटर ऐसे व्यक्ति होते हैं जो शब्दों को इस प्रकार से तैयार करते हैं कि वे Targeted Audience से जुड़कर उन्हें कुछ एक्शन लेने के लिए प्रेरित कर सकें. कॉपीराइटर टेक्स्ट आधारित प्रमोशनल मटेरियल लिखता है.

Copywriter एक प्रोफेशन है, इसलिए ऐसा जरुरी नहीं है कि सभी कॉपीराइटर विज्ञापनप्रदाता होंगें. अनेक सारे बिज़नस अपने मार्केटिंग उद्देश्यों को पूरा करने के लिए कॉपीराइटर को Hire करते हैं. अधिकांश प्रोफेशनल कॉपीराइटर केवल कॉपीराइटिंग की सर्विस प्रदान करते हैं.

यहाँ पर आपको Copyright और Copywriting में बिल्कुल Confuse नहीं होना है. चूँकि ये दोनों शब्द सुनने में एक समान लगते हैं इसलिए इसमें कई सारे लोगों को Confusion हो जाता है.

Copyright अमेरिकी सरकार के द्वारा प्रदान किया जाने वाला एक Protection है जो व्यक्ति को उसके मूल कार्य को Claim करने का अधिकार देता है. और Copywriting के बारे में हम आपको उपर बता ही चुके हैं.

कॉपी राइटर कैसे बने?

अगर आप कॉपी राइटर में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो पहले इसके लिए आपको copywriting को अच्छे से सीखना होगा. आप ऑनलाइन YouTube विडियो, ब्लॉग पढ़कर फ्री में कॉपी राइटिंग सीख सकते हैं इसके अलावा आपको कॉपी राइटिंग के ऑनलाइन अनेक सारे पेड कोर्स भी मिल जायेंगें.

जब आपको थोडा बहुत कॉपी राइटिंग की नॉलेज हो जाती है तो आप फ्रीलांसिंग कॉपी राइटिंग की सर्विस दे सकते हैं. जैसे – जैसे आप काम करते रहेंगें तो कॉपी राइटिंग में आपकी पकड़ भी अच्छी होते जायेगी.

इसके बाद आप कॉपी राइटिंग के फील्ड में नौकरी प्राप्त कर सकते हैं या खुद कॉपी राइटिंग से सम्बंधित सर्विस दे सकते हैं.

कॉपीराइटिंग क्यों जरुरी है?

किसी भी बिज़नस के प्रमोशन के लिए कॉपीराइटिंग बहुत महत्वपूर्ण होती है, क्योंकि आपके शब्दों से ही लोग प्रभावित होकर एक्शन लेते हैं. एक प्रभावी कॉपी लिखने से आपको अनेक प्रकार से फायदा मिलता है. यहाँ आगे हमनेआपको कुछ पॉइंट के द्वारा कॉपी राइटिंग की जरुरत को समझाने की कोशिस की है –

  • कॉपी राइटिंग की मदद से आप अपने ऑडियंस से कनेक्ट हो सकते हैं, क्योंकि कॉपीराइटिंग में आपको ऐसे शब्द लिखने होते हैं जैसे आप लोगों से बात कर रहें हैं ऐसे में लोगों का आप पर भरोसा बनता है और वे आपके कस्टमर बनते हैं.
  • मार्केटिंग उद्देश्यों को पूरा करने के लिए कॉपी राइटिंग बहुत महत्वपूर्ण है. आप जिस भी उद्देश्य के लिए मार्केटिंग कर रहे हैं जैसे अधिक बिक्री के लिए, लीड जनरेट करने के लिए आदि आपको उसी के अनुसार प्रभावी कॉपी लिखनी होती है जिससे आपके मार्केटिंग उद्देश्य पूरे हो सके.
  • कॉपी राइटिंग आपके मैसेज को लोगों तक प्रभावी ढंग से पहुंचाती है.

अपने बिज़नस का प्रमोशन प्रभावी तरीके से करने के लिए कॉपी राइटिंग बहुत महत्वपूर्ण है. जब आप अपने बिज़नस का प्रचार सही तरीके से कर पायेंगे तभी आपका बिज़नस जल्दी Grow करेगा.

कॉपीराइटिंग कैसे की जाती है?

आर्टिकल को यहाँ तक पढ़कर आप समझ गए होंगें कि Copywriting Kya Hai, चलिए अब समझते हैं आखिर कॉपी राइटिंग कैसे की जाती है.

कॉपीराइटिंग करना रॉकेट साइंस जितना मुश्किल तो नहीं है लेकिन यह इनता आसान भी नहीं है जितना दिखाई देता है. केवल लिखना ही कॉपी राइटिंग नहीं है, लिखना इसका अंतिम भाग है. कॉपी राइटिंग करने की बेसिक प्रोसेस कुछ इस प्रकार से है –

#1 – अपने ऑडियंस को पहचाने

कॉपी राइटिंग करने की प्रोसेस में सबसे पहले आपको अपने ऑडियंस को पहचानना पड़ता है. आपको एक रूपरेखा बनानी पड़ती है कि किस प्रकार के लोग आपके प्रोडक्ट को खरीद सकते हैं. जब आपको पता रहेगा कि आपके ऑडियंस कौन हैं तभी आप सही लोगों को अपने विज्ञापन दिखा पायेंगें.

#2 – अपना मार्केटिंग उद्देश्य निर्धारित करें

ऑडियंस बना लेने के बाद आपको अपने मार्केटिंग उद्देश्यों को तय करना होता है. मतलब कि आप कॉपी राइटिंग से किस मार्केटिंग उद्देश्य को पूरा करेंगें. मार्केटिंग उद्देश्य कुछ भी हो सकता है जैसे कि बिक्री करवाना, ईमेल लेना, लीड जनरेट करना, ब्रांड awareness बढ़ाना आदि. जब आपके मार्केटिंग उद्देश्य Clear होंगें तभी आप प्रभावी कॉपी लिख सकते हैं.

#3 – Attractive Headline का इस्तेमाल करें

कॉपी राइटिंग में Headline का रोल सबसे महत्वपूर्ण है, क्योंकि Headline बड़े शब्दों में लिखा होता है जो यूजर का ध्यान खींचता है. Headline हुक के रूप में काम करता है यानि आपकी Headline को देखकर ही यूजर यह decide करता है कि उसे इस विज्ञापन पर क्लिक करना चाहिए या नहीं. इसलिए आप Headline को हमेशा यूनिक और आकर्षक बनाने की कोशिस करें.

#4 – मैसेज को सही Tone में लिखें

आपको अपने मैसेज का Tone सही यानि कस्टमर को फोकस करते हुए रखना है. आपने अपने शब्दों को कुछ इस प्रकार से लिखना है कि ऑडियंस आपके शब्दों से जुड़ पाए. आप स्टोरी के रूप में अपने शब्दों को लिख सकते हैं या फैक्ट के रूप में. कहने का कुल मतलब है कि आपको इस प्रकार से लिखना है कि ऑडियंस आपके द्वारा इच्छित एक्शन लेने को मजबूर हो सके.

#5 – Strong Call to Action का इस्तेमाल करें

कॉपी के अंत में आपको Call to Action word (CTA) का इस्तेमाल करना पड़ता है जिससे कि यूजर एक्शन लेने के लिए मजबूर हो जाये. आप अपने मार्केटिंग उद्देश्य और कंटेंट के अनुसार CTA का इस्तेमाल करें. लेकिन आपको इस बात का ध्यान रखना है कि आपका कंटेंट प्रभावी हो, क्योंकि लोग आपके कंटेंट से प्रभावित होकर ही एक्शन लेंगें.

तो दोस्तों यह कुछ बेसिक और शुरुवाती पॉइंट हैं जिनको ध्यान में रखकर आप अपने बिज़नस के लिए कॉपी राइटिंग कर सकते हैं.

कॉपीराइटिंग का इस्तेमाल कहाँ किया जाता है?

आज हर एक जगह कॉपीराइटिंग का इस्तेमाल किया जाता है. अखबार के बैनर, ऑनलाइन एड्स, ईमेल कैंपेन, लैंडिंग पेज हर जगह कॉपीराइटिंग का इस्तेमाल होता है. क्योंकि कॉपीराइटिंग के बिना बिज़नस अपने संदेशों को टारगेट ऑडियंस तक नहीं पहुंचा पायेंगें.

एक Solopreneur जो Individual अपना बिज़नस run करता है उससे लेकर हर एक छोटे – बड़े व्यवसायों को अपने बिज़नस को प्रमोट करने के लिए copywriting की जरूरत होती है.

आप निम्नलिखित जगहों कॉपीराइटिंग का इस्तेमाल पायेंगें –

  • ऑनलाइन विज्ञापनों में
  • सोशल मीडिया नेटवर्कों के पोस्ट में
  • लैंडिंग पेजों में
  • वेबपेजों में
  • ईमेल कैंपेन में
  • ब्लॉग में
  • अखबारों के बैनर में इत्यादि.

अगर आप कॉपीराइटिंग में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो यह आपके लिए एक अच्छा करियर विकल्प हो सकता है, अभी के समय में देखें तो कॉपीराइटिंग एक High Demanding स्किल है.

Copywriting और Content Writing में अंतर

अनेक सारे लोग Copywriting और Content Writing में कंफ्यूज हो जाते हैं क्योंकि इन दोनों में काम लिखने का ही होता है. लेकिन वास्तव में ये दोनों बिल्कुल अलग चीजें हैं.

कॉपीराइटिंग का मतलब मार्केटिंग और प्रमोशन कंटेंट लिखना है जबकि कंटेंट राइटिंग का मतलब ब्लॉग या वेबसाइट पर सूचनात्मक पेज लिखने से है जैसे ब्लॉग पोस्ट, प्रोडक्ट पेज आदि.

कंटेंट राइटिंग में हम किसी भी चीज की जानकारी लोगों तक पहुंचाते हैं जबकि कॉपीराइटिंग में हमारा उदेश्य लोगों से विशिष्ट एक्शन करवाना होता है.

FAQ: Copywriting Kya Hai

Q – कॉपी राइटिंग का हिंदी मतलब क्या होता है?

कॉपीराइटिंग का हिंदी मतलब वृत लेखन होता है.

Q – कॉपी राइटिंग की परिभाषा क्या है?

कॉपीराइटिंग ऐसी प्रोसेस है जिसमें कंपनी के प्रमोशन मटेरियल में ऐसे प्रेरक शब्दों का इस्तेमाल किया जाता है जिससे टारगेट ऑडियंस को कोई विशिष्ट एक्शन लेने के लिए प्रेरित किया जाता है.

Q – कॉपी राइटिंग का मुख्य उद्देश्य क्या है?

कॉपी राइटिंग का मुख्य उद्देश्य टारगेट ऑडियंस को अपना मैसेज प्रभावी ढंग से देना है ताकि वह विशिष्ट एक्शन ले सके.

यह आर्टिकल भी पढ़ें –

अंतिम शब्द,

बिज़नस के प्रमोशन के लिए कॉपीराइटिंग आज के टाइम में एक बहुत ही महत्वपूर्ण element है. बिना कॉपीराइटिंग के कोई भी बिज़नस अपने मैसेज को लोगों तक नहीं पहुंचा सकती है. आप copywriting सीखकर इसमें अपना करियर बना सकते हैं क्योंकि कॉपी राइटिंग बहुत पहले से चली आ रही है और आगे भी बिज़नस को copywriting की जरूरत होगी.

तो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमने आपको Copywriting Kya Hai के बारे में कम्पलीट जानकारी प्रदान की है, साथ ही इस लेख में हमने आपको कॉपीराइटिंग और कंटेट राइटिंग के बीच अंतर को भी स्पष्ट रूप से समझाया है ताकि आपके मन में कॉपीराइटिंग से जुड़े कोई भी डाउट ना रहे.

उम्मीद करते हैं आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा, यदि अभी भी आपके मन में copywriting से लेकर कोई सवाल हैं तो आप हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं हम जल्दी ही आपके सवालों का जवाब देंगें. और अगर इस आर्टिकल से आपको कोई फायदा मिला है तो इसे सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें.

लेख को अंत तक पढने के लिए धन्यवाद||

0Shares

Hey Friends, I am Devendra Rawat. I am Blogger|| Hinditechdr.com Blog बनाने का मेरा यही मकसद है कि Hindi Readers को Blogging, SEO, Internet आदि की सटीक जानकारी हिंदी भाषा में प्रदान करा सकूँ. मेरे Blog पर आने के लिए धन्यवाद ||

Leave a Comment