Digital Marketing Kya Hai, डिजिटल मार्केटिंग के बारे में सम्पूर्ण जानकारी

Digital Marketing Kya Hai in Hindi – आज के समय में सब कुछ ऑनलाइन हो गया है, जैसे कि शॉपिंग, टिकट बुकिंग, खाना आर्डर, बैंकिंग इत्यादि. लोग ऑनलाइन विभिन्न प्लेटफ़ॉर्म में ज्यादा समय व्यतीत करने लगे हैं. इसलिए अब कंपनियां भी अपने प्रोडक्ट की मार्केटिंग ऑनलाइन ही करती हैं, क्योंकि कंपनियों को अधिकतर कस्टमर ऑनलाइन किसी डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म पर मिलते हैं.

आज के युवा भी ऑफिस जाने के बजाय ऑनलाइन घर पर काम करना पसंद करते हैं. जैसे Blogging, YouTube, Affiliate marketing आदि, यह सब डिजिटल मार्केटिंग के द्वारा ही संभव हो पाता है.

टेक्नोलॉजी में बहुत तेजी से विकास हो रहा है, अगर आप समय के साथ नहीं चलेंगे तो हो सकता है आप दुसरे लोगों से थोडा पीछे रह जायेंगे, यह बात एक कंपनी और व्यक्ति दोनों पर लागू होती है. इसलिए सभी को समय के साथ खुद को अपडेट करते हुए Digital Marketing Kya Hai के विषय में नॉलेज होना आवश्यक है, क्योंकि देखा जाय तो डिजिटल मार्केटिंग ही भविष्य है और इसमें निरंतर तेजी से विस्तार हो रहा है.

अगर आपको Digital Marketing के बारे में जानकारी नहीं है तो चिंता की कोई बात नहीं क्योंकि आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको डिजिटल मार्केटिंग की सम्पूर्ण जानकारी देने वाले हैं. अगर आप इस लेख को अंत तक पढ़ते हैं तो हमें पूरा भरोसा है कि आप डिजिटल मार्केटिंग के बेसिक को अच्छे से सीख जायेंगे.

इस लेख में आपको जानने को मिलेगा कि Digital Marketing क्या है, डिजिटल मार्केटिंग का इतिहास क्या है, डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार, डिजिटल मार्केटिंग के लाभ व हानि क्या है. इसके अलावा आपको डिजिटल मार्केटिंग के कोर्स और करियर संबंधी भी महत्वपूर्ण जानकारी इस लेख में मिलेगी.

तो चलिए दोस्तों आपका अधिक समय ना लेते हुए शुरू करते हैं इस लेख को और जानते हैं डिजिटल मार्केटिंग क्या है इन हिंदी विस्तार से.

Table Of Contents
  1. डिजिटल मार्केटिंग क्या है इन हिंदी (What is Digital Marketing)
  2. डिजिटल मार्केटिंग का इतिहास (History of Digital Marketing)
  3. डिजिटल मार्केटिंग कैसे करते हैं (How to do Digital Marketing)
  4. डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार (Types of Digital Marketing)
  5. डिजिटल मार्केटिंग के टर्म (Digital Marketing Jargons)
  6. डिजिटल मार्केटिंग के टूल (Digital Marketing Tool)
  7. डिजिटल मार्केटिंग के लाभ (Advantage of Digital Marketing)
  8. डिजिटल मार्केटिंग के नुकसान (Disadvantage of Digital Marketing)
  9. डिजिटल मार्केटिंग कैसे सीखें (How to Learn Digital Marketing)
  10. डिजिटल मार्केटिंग कोर्स फीस (Digital Marketing Course Fess)
  11. डिजिटल मार्केटिंग करियर (Digital Marketing Career)
  12. डिजिटल मार्केटिंग सैलरी (Digital Marketing Salary in India)
  13. डिजिटल मार्केटिंग का भविष्य (Future of Digital Marketing)
  14. FAQ For Digital Marketing in Hindi
  15. अंतिम शब्द: Digital Marketing Kya Hai हिंदी में

डिजिटल मार्केटिंग क्या है इन हिंदी (What is Digital Marketing)

Digital Marketing एक ऐसी Marketing Strategy है, जिसके द्वारा कोई कंपनी या व्यक्ति अपने प्रोडक्ट और सर्विस का प्रचार ऑनलाइन या इन्टरनेट के माध्यम से करता है.

Digital Marketing के द्वारा कंपनियां ऑनलाइन अपने लिए कस्टमर ढूंड सकती है और अपने प्रोडक्ट की बिक्री को बढ़ा सकती हैं. डिजिटल मार्केटिंग के द्वारा कंपनियां अपने प्रोडक्ट को लोगों के मोबाइल, कंप्यूटर या अन्य इन्टरनेट डिवाइस पर दिखा सकती हैं.

डिजिटल मार्केटिंग, ट्रेडिशनल मार्केटिंग से बहुत अलग है. ट्रेडिशनल मार्केटिंग में कंपनी अपने प्रोडक्ट का प्रचार करने के लिए बैनर, Pomplate चिपकाना , टेलीविज़न विज्ञापन आदि का इस्तेमाल करती है जो कि बहुत महँगी हैं और ना ही इससे सही कस्टमर तक पहुंचा जा सकता है.

वहीं दूसरी ओर डिजिटल मार्केटिंग में कंपनियां अपने प्रोडक्ट का प्रचार करने के लिए सोशल मीडिया, सर्च इंजन, ईमेल आदि का इस्तेमाल करती है. जैसे सर्च इंजन या सोशल मीडिया में विज्ञापन दिखाना, आर्टिकल पब्लिश करना, Content को इमेज, विडियो, टेक्स्ट आदि रूपों में दिखाना, ईमेल भेजना आदि सभी डिजिटल मार्केटिंग के अंतर्गत आते हैं.

ट्रेडिशनल मार्केटिंग की तुलना में डिजिटल मार्केटिंग बहुत फायदेमंद, इसके द्वारा कंपनियां कम बजट में भी अपने Targeted ऑडियंस तक पहुँच सकती है.

डिजिटल मार्केटिंग की परिभाषा (Definition of Digital Marketing)

Wikipedia के अनुसार डिजिटल मार्केटिंग एक ऐसा मार्केटिंग Component है जिसके द्वारा कोई कंपनी या व्यक्ति अपने उत्पादों या सेवाओं का प्रचार करने के लिए इन्टरनेट डिवाइस जैसे डेस्कटॉप, लैपटॉप, स्मार्टफ़ोन या अन्य डिजिटल मीडिया और प्लेटफॉर्म का उपयोग करता है.

डिजिटल मार्केटिंग का दूसरा नाम (Other Name of Digital Marketing)

डिजिटल मार्केटिंग के अन्य नाम ऑनलाइन मार्केटिंग (Online Marketing) या इन्टरनेट मार्केटिंग (Internet Marketing) है. अगर आपको कहीं पर डिजिटल मार्केटिंग के स्थान पर इन दोनों शब्दों का इस्तेमाल हुआ मिलेगा तो इन सब का मतलब एक ही है आप इसमें बिल्कुल भी Confuse मत होना.

डिजिटल मार्केटिंग का इतिहास (History of Digital Marketing)

अगर पीछे मुड़कर इतिहास में देखें तो डिजिटल मार्केटिंग टेक्नोलॉजी की शुरुवात 1971 में हुई थी जब Ray Tomlinson ने ARPANET नेटवर्क में पहला ईमेल भेजा था. यह बस शुरुवात थी लेकिन उस समय पर डिजिटल मार्केटिंग प्रचलित नहीं हुई थी.

1990 के दशक में असल में डिजिटल मार्केटिंग का विस्तार होना शुरू हुआ, लोग मार्केटिंग शब्द से परिचित होने लगे. सन 2000 में इन्टरनेट यूजर की संख्या बढ़ने के साथ डिजिटल मार्केटिंग ने एक नया मोड़ ले लिया. क्योंकि अब तक मार्किट में अनेक सर्च इंजन आ चुके थे जिनके द्वारा कंपनियां अपने प्रोडक्ट को लोगों के डिवाइस तक पहुंचा सकती थी.

2010 के दशक में डिजिटल मार्केटिंग में और भी विस्तार हुआ क्योंकि सोशल मीडिया ने लोगों के जीवन में अपना एक अभिन्न स्थान बना लिया था. आज भी निरंतर रूप से डिजिटल मार्केटिंग में विस्तार हो रहा है, अनेक सारी नयी – नयी टेक्नोलॉजी आ रही हैं जिनके द्वारा डिजिटल मार्केटिंग और भी आसान हो गयी है.

डिजिटल मार्केटिंग कैसे करते हैं (How to do Digital Marketing)

डिजिटल मार्केटिंग करने के लिए आपको एक Digital Asset की जरुरत होती है. डिजिटल एसेट के द्वारा ही आप अपने प्रोडक्ट को कस्टमर तक पहुंचा सकते हैं. कुछ Digital Asset के बारे में हमने आपको यहाँ नीचे बताया है –

  • ब्लॉग या वेबसाइट
  • लैंडिंग पेज
  • सोशल मीडिया पेज
  • YouTube चैनल
  • E-book
  • मोबाइल एप्लीकेशन इत्यादि.

ये कुछ डिजिटल एसेट हैं जिनके द्वारा आप अपने प्रोडक्ट का प्रचार कर सकते हैं. Digital Asset के द्वारा प्रोडक्ट का प्रचार कैसे किया जाता है उसे समझने के लिए हम डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार जानेंगे.

डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार (Types of Digital Marketing)

Digital Marketing करने की तकनीक के आधार पर इसे कई भागों में वर्गीकृत किया जा सकता है. डिजिटल मार्केटिंग के कुछ प्रमुख प्रकार हमने आपको इस लेख में बताये हैं.

1 – Search Engine Optimization (SEO)

SEO एक ऐसी डिजिटल मार्केटिंग तकनीक है जिसके द्वारा आप अपनी वेबसाइट को सर्च इंजन (जैसे गूगल, बिंग, याहू आदि) के रिजल्ट पेज में Top Position में रैंक करवा सकते हैं और वेबसाइट पर ट्रैफिक प्राप्त कर सकते हैं.

जैसे यूजर गूगल में कोई Query सर्च करते हैं तो गूगल यूजर को पहले पेज पर 10 रिजल्ट यानि वेबसाइट दिखाता है. आमतौर पर सभी यूजर पहले पेज पर दिखाये जाने वाले वेबसाइट पर ही क्लिक करते हैं, जिससे इन वेबसाइटों पर अधिक ट्रैफिक होता है. तो जो यह वेबसाइट टॉप में रैंक कर रही होती हैं इन्हें SEO के द्वारा ही रैंक कराया जाता है.

SEO बिल्कुल फ्री प्रोसेस है लेकिन यह थोडा समय लेती है. अगर आपके पास ज्यादा बजट नहीं है तो आप SEO के द्वारा अपनी वेबसाइट पर ट्रैफिक लाकर अपने बिज़नस के लिए अधिक कस्टमर प्राप्त कर सकते हैं. SEO के अंतर्गत निम्न कुछ महत्वपूर्ण बातें आती है.

SEO के बारे में अधिक सीखने के लिए आप हमारे ब्लॉग के SEO केटेगरी के लेख को पढ़ सकते हैं.

2 – Content Marketing

Content marketing ऐसी मार्केटिंग हैं जिसके द्वारा कंपनियां अपने प्रोडक्ट पर एक कंटेंट तैयार करती हैं और अधिक से अधिक ऑडियंस को अपने प्रोडक्ट की ओर आकर्षित करते है. कंटेंट मार्केटिंग आज के समय में बहुत फायदेमंद है इसलिए इसमें Competition भी बहुत अधिक है.

कंटेंट Text, इमेज, विडियो, ऑडियो, इन्फोग्रफिक्स आदि रूपों में हो सकता है. आप कंटेंट मार्केटिंग निम्नलिखित प्रकार से कर सकते हैं.

  • ब्लॉग लिखकर
  • पॉडकास्ट के द्वारा
  • इमेज शेयर करके
  • विभिन्न प्लेटफ़ॉर्म पर विडियो शेयर करके

कंटेंट मार्केटिंग के द्वारा अपने प्रोडक्ट को प्रमोट करने के लिए आपको एक बात का ध्यान रखना चाहिये कि आपका कंटेंट उच्च गुणवता वाला और प्रभावी होना चाहिये जो यूजर को Convert कर सके.

3- Social Media Marketing (SMM)

Social Media Marketing ऐसी तकनीक है जिसमें आप अपने प्रोडक्ट का प्रचार सोशल मीडिया के द्वारा करते हैं और अपने बिज़नस के लिए कस्टमर Find करते हैं. सोशल मीडिया मार्केटिंग के कुछ लोकप्रिय प्लेटफ़ॉर्म फेसबुक, इन्स्टाग्राम, ट्विटर, Linkdin, Pinterest इत्यादि हैं.

आज के समय में लगभग सभी लोग किसी ना किसी सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर हैं, इसलिए मार्केटिंग की यह तकनीक सबसे बेस्ट तकनीक में से एक है.

सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म में इनबिल्ट engagement metrics होते हैं जिसके द्वारा आप यह पता कर सकते हैं कि आप अपने कस्टमर तक कितने अच्छे तरीके से पहुँच रहे हैं, आपके कस्टमर आपके प्रोडक्ट को पसंद कर रहे हैं या नहीं, इत्यादि सारी जानकारी आप सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म से प्राप्त कर सकते हैं.

4 – Search Engine Marketing (SEM)

सर्च इंजन मार्केटिंग (SEM) भी एक बहुत Powerful डिजिटल मार्केटिंग तकनीक है जिसके द्वारा आप सर्च इंजन जैसे गूगल, बिंग आदि की मदद से अपने सही कस्टमर तक पहुँच सकते हैं.

सर्च इंजन मार्केटिंग में आपको सही कीवर्ड का इस्तेमाल करके सही कस्टमर तक पहुँचाना होता है. SEM के लिए आप गूगल या बिंग में Ad Campaign चला सकते हैं या SEO कर सकते हैं. Quality Traffic प्राप्त करने के लिए SEM अच्छा विकल्प है.

5- Pay Per Click Marketing (PPC)

PPC एक Paid marketing होती है जिसमें आपको प्रत्येक क्लिक का पैसा देना पड़ता है. आप गूगल, फेसबुक जैसे प्लेटफ़ॉर्म पर अपने प्रोडक्ट के लिए विज्ञापन चला सकते हैं और तुरंत अपने कस्टमर तक पहुँच सकते हैं. जब कोई यूजर आपकी Ad पर क्लिक करता है तो आपको इसका भुगतान करना पड़ता है.

गूगल या फेसबुक कई अल्गोरिथम के द्वारा आपके विज्ञापन को सही लोगों तक पहुंचाते हैं जैसे कि कीवर्ड Relevancy, विज्ञापन की गुणवत्ता, लैंडिंग पेज, आपका बजट इत्यादि.

आप सभी प्लेटफ़ॉर्म में ट्रैक कर सकते हैं आपके विज्ञापन को कितने लोगों ने देखा, कितने लोगों ने क्लिक किया, प्रत्येक क्लिक का आपको कितना पैसा लगा इत्यादि.

6 – Email Marketing

Email marketing ऐसी मार्केटिंग होती है जिसमें आप अपने कस्टमर को ईमेल भेजकर अपने प्रोडक्ट का प्रचार करते हैं. अपने बिज़नस को बढाने के लिए ईमेल मार्केटिंग भी Powerful है.

ईमेल मार्केटिंग में आप विज्ञापन चलाकर या SEO के द्वारा अपने कस्टमर की ईमेल ID प्राप्त कर सकते हैं और फिर ईमेल मार्केटिंग टूल के द्वारा Bulk में ईमेल भेज सकते हैं.

अधिकतर ईमेल मार्केटिंग ऑटोमेशन पर ही होता है, जिसमें आप ईमेल मार्केटिंग सॉफ्टवेयर के द्वारा ईमेल प्राप्त कर सकते हैं और फिर एक निश्चित Schedule में ईमेल भेज सकते हैं. बस आपको शुरुवात में ईमेल बनाने और इसका सेटअप करने में ही समय लगेगा.

7 – Application Marketing

ऐसी मार्केटिंग जिसमें आप मोबाइल एप्लीकेशन के द्वारा अपने प्रोडक्ट या सर्विस को लोगों तक पहुंचा सकते हैं उसे Application Marketing कहते हैं.

आजकल लगभग हर एक व्यक्ति के पास स्मार्टफ़ोन है जिसमें वह अनेक प्रकार के एप्लीकेशन को डाउनलोड करता है, इसलिए App का इस्तेमाल भी मार्केटिंग में बहुत अधिक किया जाता है. Amazon, Flipkart जैसी कंपनियां App मार्केटिंग के द्वारा अपनी कंपनी को नयी ऊँचाइयों पर लेकर गयी.

इनके अलावा भी अनेक सारी कंपनियां हैं जो App मार्केटिंग का इस्तेमाल व्यापक रूप से करती हैं और अपने बिज़नस के लिए अधिक कस्टमर प्राप्त करती है.

8 – Affiliate Marketing

एफिलिएट मार्केटिंग एक ऐसी मार्केटिंग तकनीक है जिसमें आप अपने प्रोडक्ट का प्रचार अन्य लोगों, जिन्हें कि एफिलिएट कहते हैं, से करवा सकते हैं और प्रोडक्ट बिकवाने पर आपको उन्हें कुछ प्रतिशत कमीशन देना होता है.

एफिलिएट मार्केटिंग का फायदा यह है कि इसमें आपको प्रोडक्ट को मार्केट करने की झंझट खत्म हो जायेगी, और आपको एफिलिएट को तभी कमीशन देना होगा जब वे सफलतापूर्वक आपके प्रोडक्ट की बिक्री करवा देंगे.

9 – Influencer Marketing

Influencer मार्केटिंग वर्तमान समय में तेजी से उभरने वाली एक मार्केटिंग तकनीक में से एक है जिसमें आपको Social Media Influencer से अपने प्रोडक्ट का प्रचार करवाना होता है और बदले में उन्हें पैसे देने होते हैं. Social Media Influencer अपने प्रोफाइल में आपके प्रोडक्ट पर एक कंटेंट बना देते हैं और अपने फॉलोवर को आपका प्रोडक्ट खरीदने के लिए कहते हैं.

10 – Marketing Automation

Marketing Automation का मतलब होता है कि आप अधिक समय निवेश किये बिना हर एक कस्टमर को प्रभावी ढंग से अपने प्रोडक्ट को मार्केट कर सकते हैं.

टेक्नोलॉजी के बढ़ते युग में मार्केटिंग Automation पर होने लगी है. Automation के द्वारा आप सही समय में सही कस्टमर तक पहुँच सकते हैं, यहाँ पर आपकी उपस्थिति की कोई आवश्यकता नहीं होती है. यह सारा काम ऑटोमेशन पर होता है. मार्केटिंग को ऑटोमेशन पर करने के लिए अनेक सारे सॉफ्टवेयर आपकी मदद करते हैं.

Marketing Automation का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आप बिना किसी बड़ी टीम के अपने प्रोडक्ट को बेहतर तरीके से लोगों के सामने प्रस्तुत कर सकते हैं और साथ में ही आप अपना कीमती समय भी बचा सकते हैं

डिजिटल मार्केटिंग के टर्म (Digital Marketing Jargons)

यहाँ तक पढने पर आप समझ गए होंगे कि Digital Marketing Kya Hai, अब डिजिटल मार्केटिंग के इस्तेमाल होने वाले कुछ शब्दों को समझते हैं.

डिजिटल मार्केटिंग में इस्तेमाल होने वाले शब्दों को Jargons कहते हैं. वैसे डिजिटल मार्केटिंग में अनेक सारे शब्दों का इस्तेमाल किया जाता है लेकिन हमने यहाँ आपको डिजिटल मार्केटिंग में इस्तेमाल होने वाले कुछ Popular शब्दों के बारे में बताया है –

  • Conversion Rate – इसका मतलब उन कस्टमर की प्रतिशत में संख्या से है जिन्होंने Specific Action को लिया. जैसे Signup करना, ईमेल देना, प्रोडक्ट खरीदना आदि.
  • Impression – Impression का मतलब होता है कि आपके कंटेंट को कितनी बार लोगों ने देखा है.
  • Click Through Rate (CTR) – आपके कंटेंट पर जितने Impression मिले उसमें से कितने प्रतिशत लोगों ने आपके कंटेंट पर क्लिक किया है उसे CTR कहते हैं.
  • Return of Investment (ROI) – ROI का मतलब होता है जितना पैसा आपने मार्केटिंग में इन्वेस्ट किया था उतने में से कितना Return आपको मिला.
  • Cost Per Click (CPC) – यूजर के द्वारा एक क्लिक करने पर आपको कितना पैसा देना पड़ा उसे CPC कहते हैं. यह शब्द PPC मार्केटिंग में ज्यादा इस्तेमाल होता है.
  • Customer Relationship Management (CRM) – किसी कंपनी द्वारा अपने ग्राहकों के बीच संबंध को बनाने और उसे आगे भविष्य में भी बनाये रखने को CRM कहते हैं.
  • Lead – किसी Specific केटेगरी के कस्टमर के डेटा (नाम, नंबर, ईमेल, पता आदि) को Lead कहा जाता है.
  • Viral – बहुत कम समय में आपका कंटेंट लाखों – करोड़ों लोगों तक पहुँच जाता है तो इसे वायरल कहते हैं. अगर आपका कोई कंटेंट लोगों को पसंद आता है, तो वे आपके कंटेंट को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक शेयर करते हैं.

इसी प्रकार अलग – अलग प्रकार की डिजिटल मार्केटिंग तकनीक के लिए विभिन्न शब्दों का इस्तेमाल किया जाता है. जब आप डिजिटल मार्केटिंग सीखना शुरू करेंगे तो आप भी अनेक प्रकार के Digital Marketing Jargons को समझने लगेंगे.

डिजिटल मार्केटिंग के टूल (Digital Marketing Tool)

ऐसे टूल या सॉफ्टवेयर जिनके द्वारा आप डिजिटल मार्केटिंग कर सकते हैं उन्हें ही डिजिटल मार्केटिंग टूल कहा जाता है. वैसे अलग – अलग प्रकार की डिजिटल मार्केटिंग के लिये टूल भी भिन्न – भिन्न होते हैं. कुछ Popular Digital Marketing Tool निम्नलिखित हैं.

  • SEO के लिए टूल – SEMrush, Ahrefs, Ubersuggest.
  • कंटेंट मार्केटिंग के लिए टूल – WordPress, Social Media Pages, Blogger.com, YouTube etc.
  • PPC मार्केटिंग के लिए टूल – Google AdWords, Facebook Ad manager, Bing Ads etc.
  • ईमेल मार्केटिंग के लिए टूल – AWeber, Mailchimp, Active Campaign etc.
  • सोशल मीडिया मार्केटिंग सॉफ्टवेयर – Facebook, Instagram, Pinterest, Linkding, Twitter etc.
  • लैंडिंग पेज बनाने के लिए टूल – Clickfunnel, Builderall, Grrovefunnel etc.
  • Market Analytics के सॉफ्टवेयर – Google Analytics, Google Search Console etc.
  • Marketing Automation के लिए टूल – Marketo, HubSpot etc.

डिजिटल मार्केटिंग के लाभ (Advantage of Digital Marketing)

डिजिटल मार्केटिंग के ढेरों सारे फायदे हैं इसलिए अधिकतर कंपनियां डिजिटल मार्केटिंग की तरफ आकर्षित हो रही हैं. डिजिटल मार्केटिंग के कुछ फायदे निम्नलिखित हैं.

  • डिजिटल मार्केटिंग के द्वारा आप अपने प्रोडक्ट का प्रचार दुनियाभर में कर सकते हैं. यह आपके बिज़नस की पहुँच को बढाता है.
  • डिजिटल मार्केटिंग के लिए आपको ट्रेडिशनल मार्केटिंग की अपेक्षा बहुत अधिक पैसे खर्च नहीं करते पड़ते हैं. आप कम बजट में भी अपने प्रोडक्ट को मार्केट कर सकते हैं.
  • चूँकि डिजिटल मार्केटिंग के द्वारा आप अपने प्रोडक्ट को Selected लोगों को दिखा सकते हैं, इसलिए इसमें कम बजट में अच्छे रिजल्ट मिलने की संभावना होती है.
  • अपने नए प्रोडक्ट को भी तुरंत आप विज्ञापन चलाकर लाखों लोगों तक पहुंचा सकते हैं.
  • आपके प्रोडक्ट की बिक्री 24 घंटे होगी, क्योंकि लोग अपना अधिकतर समय ऑनलाइन ही व्यतीत करते हैं.
  • आप अपने कस्टमर की ट्रैकिंग कर सकते हैं, और वेब एनालिटिक्स टूल के द्वारा अपने हर एक कस्टमर की गतिविधि पर नजर रख सकते हैं.
  • आप अपने कस्टमर का डेटा ले सकते हैं और भविष्य में अपने अन्य प्रोडक्ट को भी उन्हें मार्केट कर सकते हैं.

डिजिटल मार्केटिंग के नुकसान (Disadvantage of Digital Marketing)

डिजिटल मार्केटिंग के फायदों के साथ – साथ कुछ नुकसान भी हैं, इसके कुछ नुकसान हमने निम्नलिखित बताये हैं –

  • डिजिटल मार्केटिंग करने के लिए आपको प्रशिक्षण की जरुरत होती है. आपको हर प्रकार के टूल के बारे में सीखना पड़ेगा.
  • Up to date रहने की जरुरत होती है, क्योंकि सभी टूल नियमित रूप से नये – नये अपडेट के साथ आते हैं.
  • शुरुवात में आपके विज्ञापनों या कंटेंट को Optimize करने के लिए समय लगता है.
  • डिजिटल मार्केटिंग असरदार और कम बजट में संभव है इसलिए इसमें बहुत High competition होता है. आपको अपने प्रोडक्ट को लोगों के सामने पेश करने के लिए यूनिक आईडिया सोचने होंगे, या कहें तो आपको Creative बनना होगा.
  • आपके निराश कस्टमर आपके पोस्ट में कमेंट कर सकते हैं और प्रोडक्ट की कमियों को उजागर कर सकते हैं, जिससे आपको नुकसान झेलना पड़ सकता है.

डिजिटल मार्केटिंग कैसे सीखें (How to Learn Digital Marketing)

आप डिजिटल मार्केटिंग को ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों प्रकार से सीख सकते हैं.

फ्री में ऑनलाइन डिजिटल मार्केटिंग सीखने के लिए आप YouTube चैनल में डिजिटल मार्केटिंग की विडियो देख सकते हैं, ब्लॉग पढ़ सकते हैं या फिर कोई ऑनलाइन Paid कोर्स ले सकते हैं जो कि आपको बहुत आसानी से मिल जायेगा.

वहीँ ऑफलाइन डिजिटल मार्केटिंग सीखने के लिए आप डिजिटल मार्केटिंग इंस्टिट्यूट ज्वाइन कर सकते हैं या फिर डिजिटल मार्केटिंग की किताबे लेकर सीख सकते हैं.

लेकिन अगर आप डिजिटल मार्केटिंग सीख रहे हैं तो एक बात का ध्यान रखें कि सीखने के साथ खुद से भी चीजों को Try करें तभी आप बेहतर तरीके से डिजिटल मार्केटिंग सीख पायेंगे.

डिजिटल मार्केटिंग कोर्स फीस (Digital Marketing Course Fess)

डिजिटल मार्केटिंग की सही फीस बता पाना बहुत मुश्किल है. क्योंकि लगभग सभी इंस्टिट्यूट और ऑनलाइन कोर्स की फीस अलग – अलग होती है.

लेकिन मोटे तौर पर कहें तो इंस्टिट्यूट में डिजिटल मार्केटिंग सीखने के लिए आपको 30 से 50 हजार देने पड़ सकते हैं, वही ऑनलाइन कोर्स आप 10 हजार या इससे भी कम में खरीद सकते हैं. लेकिन कई कोर्स की कीमत 10 हजार से भी अधिक हो सकती है.

डिजिटल मार्केटिंग करियर (Digital Marketing Career)

अगर आप डिजिटल मार्केटिंग में करियर बनाने की इच्छा रखते हैं तो आपके बता दें कि डिजिटल मार्केटिंग में भी अलग – अलग पद होते हैं. आप किसी भी एक डिजिटल मार्केटिंग स्किल को सीख सकते हैं जैसे PPC, SEO, SMM आदि, और फिर उसी के आधार पर डिजिटल मार्केटिंग में अपना करियर बना सकते हैं. डिजिटल मार्केटिंग के कुछ पद निम्नलिखित हैं –

1 – Digital Marketing Manager

यह डिजिटल मार्केटिंग में सबसे बड़ा पद होता है. इसमें आपको टीम को मैनेज करना होता है और योजना बनानी होती है कि किस प्रोडक्ट को कैसे मार्केट करना है, कहाँ मार्केट करना है आदि.

2 – SEO Person

SEO से सम्बंधित जितने भी कार्य होते हैं उन सब को SEO Person हैंडल करता है. SEO Person कीवर्ड पर वेबसाइट को रैंक करवाने की पूरी योजना बनाता है.

3 – Social Media Expert

सोशल मीडिया एक्सपर्ट प्रोडक्ट को सोशल मीडिया के द्वारा सही कस्टमर तक पहुंचाते हैं. ऐसे लोग सोशल मीडिया के Expert होते हैं और उन्हें सोशल मीडिया की गहरी नॉलेज होती है.

4 – PPC Marketer

जो डिजिटल मार्केटर प्रोडक्ट को सही कस्टमर तक पहुंचाने के लिए पेड विज्ञापनों का सहारा लेते हैं उन्हें PPC मार्केटर कहा जाता है. PPC Marketer हर एक प्लेटफ़ॉर्म में विज्ञापन चलाने में माहिर होते हैं, और प्रोडक्ट की बिक्री बढाने में कंपनी की मदद करते हैं.

5 – Copywriter

Copywriter कंटेंट को बेहतर बनाने का कार्य करते हैं, क्योंकि डिजिटल मार्केटिंग में कंटेंट सबसे महत्वपूर्ण होता है, और कंटेंट को देखकर ही लोग प्रोडक्ट को खरीदते हैं. यदि आपके कंटेंट में दम नहीं है तो आप एक अच्छा प्रोडक्ट भी नहीं बिकवा सकते हैं. इसलिए डिजिटल मार्केटिंग के फील्ड में Copywriter का होना भी महत्वपूर्ण है.

6 – Market Analytics

Market Analytics डिजिटल मार्केटिंग में बहुत महत्वपूर्ण होते हैं, यह डेटा को समझने में एक्सपर्ट होते हैं. Market Analytics कंपनी की लगातार Growth कर सकते हैं.

क्योंकि ये पता कर सकते हैं कि किस प्रकार के कस्टमर अधिक प्रोडक्ट को खरीदते हैं, कौन सा प्रोडक्ट अधिक बिक रहा है, प्रोडक्ट खरीदने वाले कस्टमर की डिटेल जैसे उनकी उम्र, इंटरेस्ट आय आदि. और फिर उनके आधार पर बिक्री बढाने के लिए योजनाये बनाते हैं.

डिजिटल मार्केटिंग सैलरी (Digital Marketing Salary in India)

डिजिटल मार्केटिंग की सैलरी पदों और कंपनी पर निर्भर करती है. डिजिटल मार्केटिंग मेनेजर की सैलरी 1 लाख या इससे भी अधिक प्रतिमाह होती है तो वहीं दूसरी ओर एक Intern की सैलरी 10 हजार प्रतिमाह होती है, कई कंपनी में इससे भी कम होती है.

अगर आप अपने करियर की शुरुवात कर रहे हैं तो आपकी सैलरी विभिन्न पदानुसार अधिकतम 10 या 20 हजार रूपये प्रतिमाह होती है और जैसे – जैसे आपका अनुभव बढ़ता जाता है तो आपकी सैलरी में भी इजाफा होता है.

डिजिटल मार्केटिंग का भविष्य (Future of Digital Marketing)

आज सभी कंपनियां अपने बिज़नस को ऑनलाइन ले जाने के लिए मोटी सैलरी पर अनुभवी डिजिटल मार्केटर को Hire कर रही हैं. मार्केट में डिजिटल मार्केटर की मांग बढती जा रही है. इसलिए डिजिटल मार्केटिंग का भविष्य बहुत उज्जवल है.

भारत में भी अब डिजिटल मार्केटिंग के क्षेत्र में Competition बढ़ने लगा है. नयी पीढ़ी डिजिटल मार्केटिंग की तरफ ज्यादा आकर्षित हो रही है, क्योंकि डिजिटल मार्केटिंग स्किल के द्वारा Freelancing करके घर बैठे भी काम किया जा सकता है और नौकरियों की तुलना में अच्छे पैसे कमाये जा सकते हैं.

कुल मिलाकर देखें तो डिजिटल मार्केटिंग ही भविष्य है, क्योंकि हम एक ऐसे युग में जी रहे हैं जिसमें अधिकांश नौकरियों पर टेक्नोलॉजी का ख़तरा मंडरा रहा है और साथ में कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के कारण कई लोग अपनी नौकरी से हाथ धो बैठे हैं. इसलिए भविष्य को ध्यान में रखते हुए डिजिटल मार्केटिंग में करियर बनाना एक अच्छा विकल्प है.

जब से Digital Marketing की शुरुवात हुई तब से लेकर अभी तक यह इंडस्ट्री निरंतर रूप से Growth करती रही है, और आगे भी इसमें अधिक विकास होता जाएगा. इसलिए हम कह सकते हैं डिजिटल मार्केटिंग का भविष्य सुनहरा होने वाला है.

FAQ For Digital Marketing in Hindi

Q – डिजिटल मार्केटिंग का कोर्स कितने साल का होता है?

सामान्य तौर पर डिजिटल मार्केटिंग का कोर्स 6 महीने का होता है, लेकिन कुछ इंस्टिट्यूट में इसकी समय अवधी अधिक भी हो सकती है.

Q – डिजिटल मार्केटिंग की फीस कितनी है?

अलग – अलग संस्थानों में डिजिटल मार्केटिंग की फीस भी अलग – अलग होती है. आप 30 से 50 हजार रूपये में कम्पलीट डिजिटल मार्केटिंग सीख सकते हैं.

Q – डिजिटल मार्केटिंग से आप क्या समझते हैं?

Digital Marketing एक ऐसी मार्केटिंग योजना है जिसमें आप अपने प्रोडक्ट या सर्विस को डिजिटल मीडिया के द्वारा लोगों तक पहुंचा सकते हैं.

Q – डिजिटल मार्केटिंग का दूसरा नाम क्या है?

डिजिटल मार्केटिंग को इन्टरनेट मार्केटिंग या ऑनलाइन मार्केटिंग भी कहा जाता है.

यह लेख भी पढ़ें –

अंतिम शब्द: Digital Marketing Kya Hai हिंदी में

तो यह थी Digital Marketing Kya Hai के विषय में पूर्ण जानकारी, जिसे पढ़कर आप डिजिटल मार्केटिंग के बेसिक को समझ गए होंगे. डिजिटल मार्केटिंग एक बहुत बड़ा Topic है जिसके बारे में सब कुछ एक लेख में बता पाना असंभव है.

हम अपने ब्लॉग पर समय – समय पर आपके लिए डिजिटल मार्केटिंग के बेहतरीन आर्टिकल लेकर आते हैं, इसलिए आप हमारे ब्लॉग पर विजिट करते रहें. आपको यहाँ पर हमेशा कुछ ना कुछ सीखने को मिलता रहेगा.

इस लेख में इतना ही, उम्मीद करते हैं आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख जरुर पसंद आया होगा, इस जानकारी को सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें, और अगर अभी भी आपके कोई प्रशन या सुझाव हैं तो कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं.

लेख को अंत तक पढने के लिए धन्यवाद||

0Shares

Hey Friends, I am Devendra Rawat. I am Blogger|| Hinditechdr.com Blog बनाने का मेरा यही मकसद है कि Hindi Readers को Blogging, SEO, Internet आदि की सटीक जानकारी हिंदी भाषा में प्रदान करा सकूँ. मेरे Blog पर आने के लिए धन्यवाद ||