Meta Title और Description को SEO ऑप्टिमाइज़ कैसे बनायें?

Title and Meta Description in SEO Hindi –  क्या आप जानते है SEO के नजरिये से मेटा टाइटल और डिस्क्रिप्शन कितना महत्वपूर्ण होता है, और इन्हें कैसे लिखा जाता है. यदि नहीं तो आप एकदम सही लेख पर आये हैं. आज के इस लेख के माध्यम से मैंने आपको टाइटल और डिस्क्रिप्शन लिखने के बारे में पूरी जानकारी दी है, और साथ में ही आपको बताया है कि title और description को लिखते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए.

मेटा टाइटल और डिस्क्रिप्शन On Page SEO के सबसे महत्वपूर्ण फैक्टर में से एक होते हैं क्योंकि ये दोनों ही यूजर को सर्च इंजन रिजल्ट पेज पर दिखाई देते हैं. अगर आप इन्हें लिखने में कोई गलती करते हैं आप अपने अनेक विजिटर को खो सकते हैं.

अधिकतर ब्लॉगर अपने ब्लॉग को SEO के द्वारा गूगल के पहले पेज पर रैंक तो करवा लेते हैं लेकिन टाइटल और डिस्क्रिप्शन सही ना लिखने के कारण उनके ब्लॉग पर ट्रैफिक नहीं आता है, और उनका CTR हमेशा कम रहता है. क्योंकि वे अपने टाइटल और डिस्क्रिप्शन को सही तरीके से ऑप्टिमाइज़ नहीं करते हैं.

अगर आप Blogger है या SEO Person हैं तो यह लेख आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण होने वाला है, इसलिए इस लेख को पूरा अंत तक जरुर पढ़ें. तो चलिए बिना देरी किये शुरू करते हैं आज का यह लेख.

Title and Meta Description in SEO Hindi

जब भी कोई यूजर गूगल या किसी अन्य Search Engine पर कोई Keyword सर्च करता है, तो उस कीवर्ड पर सर्च इंजन यूजर को पहले पेज में 10 वेबसाइट रिजल्ट के रूप में दिखाता है. लेकिन यूजर उनमे से उसी वेबसाइट को विजिट करता है जिसका टाइटल और डिस्क्रिप्शन यूजर को कोई Value Provide करवाता है.

अर्थात टाइटल और डिस्क्रिप्शन में हमेशा वह बात होनी चाहिए जिसे यूजर सर्च इंजन में Find कर रहा है. अगर किसी वेबसाइट के टाइटल और डिस्क्रिप्शन में अधूरी बात रहती है तो इस बात की संभावना अधिक रहती है कि यूजर उस वेबसाइट पर क्लिक नहीं करता है. ब्लॉग पोस्ट का Title और Description ऐसा होना चाहिए जो यूजर को Convene कर सके कि वह आपकी वेबसाइट को विजिट करें.

टाइटल और डिस्क्रिप्शन SEO में ऐसी मैट्रिक्स हैं जो यूजर को सर्च इंजन रिजल्ट पेज पर दिखाई देती हैं और इन्हीं से यूजर Convert होकर किसी वेबसाइट पर Land करता है.

जैसे हम गूगल सर्च इंजन में सर्च करते हैं Free Images तो यह वेबसाइट रैंक कर रही है, इसके टाइटल और डिस्क्रिप्शन को पढ़िए. वेबसाइट के टाइटल और डिस्क्रिप्शन से ही यह पता चल रहा है कि यह वेबसाइट ब्लॉग के लिए Free Images Provide करवाती है. (नीचे इमेज देखें)

Title and Description

मैंने अधिकतर वेबसाइट में देखा है कि Title और Description को अधिकतर ब्लॉगर सर्च इंजन के Point of views से लिखते हैं और उनकी वेबसाइट रैंक भी कर जाती है. पर उन वेबसाइट पर क्लिक बहुत कम मिलते है जिससे उनकी रैंकिंग खुद ही Down होने लगती है.

इसलिए हमेशा टाइटल और डिस्क्रिप्शन को यूजर और सर्च इंजन दोनों के Point of View से लिखना चाहिए. आगे इस आर्टिकल में आपको यह जानने को भी मिलेगा कि Title और Description को कैसे लिखा जाता है.

SEO में टाइटल क्या है (Title in SEO in Hindi)

किसी भी ब्लॉग पोस्ट का Title वह होता है जो सर्च इंजन और यूजर दोनों को यह बताता है कि वेबपेज किस बारे में लिखा गया है, मतलब ब्लॉग पोस्ट के अन्दर कंटेंट का मुख्य विषय क्या है. सर्च इंजन बोट्स को ब्लॉग टाइटल वेबपेज के HTML coding के header Section में लिखा मिलता है.

HTML में Title Tag

<head >
        <title >Title of Content </title >
</head >

ब्लॉग का टाइटल कैसे लिखें

Title लिखते समय निम्न बातों का ध्यान रखें.

Length – टाइटल की length अधिकतम  40 से 50 शब्दों की होनी चाहिए. क्योकि अगर Title की Length अधिक होगी तो टाइटल सर्च इंजन में यूजर को पूरा नहीं दिखाई देता.

Keyword – टाइटल में हमेशा ब्लॉग पोस्ट का फोकस कीवर्ड का इस्तेमाल करें. यह जितनी शुरुवात में हो उतना फायदा आपको फायदा मिलता है.

User Intent – यूजर जो Query कर रहा है उसके द्वारा वह क्या जानना चाहता है अर्थात User Intent क्या है इसे समझें और फिर इसके अनुसार टाइटल बनायें.

Unique Title – इस बात का भी जरुर ध्यान देना चाहिए कि ब्लॉग के हर एक वेबपेज का एक अलग टाइटल होना चाहिए. और जिस कीवर्ड पर आप आर्टिकल लिख रहे हैं, उस कीवर्ड पर जो वेबसाइट रैंक कर रही हैं उनसे भी अगल टाइटल लिखने की कोशिस करें.

Use Call to Action Word – ब्लॉग टाइटल को आकर्षक और Catchy बनाने के लिए आप Call to Action Word का प्रयोग कर सकते हैं.

जैसे आप Hindi में आर्टिकल लिखते हैं तो जानिए , सीखिए , बनाये ऐसे शब्दों का इस्तेमाल कर सकते हैं , जिससे यूजर आपके आर्टिकल को पढने के उत्सुक होंगे.

Use Number for Make Valuable Title – टाइटल को आकर्षक या Valuable बनाने के लिए नंबर का प्रयोग कर सकते हैं. जैसे – Top 10 Way To Grow Online Business, 10 best way to earn money online आदि. जिन टाइटल में नंबर लिखा होता है वह यूजर को अधिक Convert करते हैं.

नोट - Call to Action Word और Number का प्रयोग रैंकिंग में कोई Effect नहीं डालता है , यह बस user के Point of view से लिखा जाता है. क्तोयोंकि एक कीवर्ड पर अनेक सारी वेबसाइट रैंक करती हैं, इसलिए यूजर को अपनी वेबसाइट पर लाने के लिए इनका प्रयोग करते हैं. पर ऊपर की जो तीन चीजे Length , Keyword और यूनिक Title हैं वह सर्च इंजन के नजरिये से महत्वपूर्ण हैं इसलिए इन्हें हमेशा ध्यान में रखना चाहिए.

SEO में डिस्क्रिप्शन क्या है (Description in SEO in Hindi)

डिस्क्रिप्शन किसी भी ब्लॉग पोस्ट की 140 -150 शब्दों की summery होती है जो पुरे पोस्ट के बारे में जानकारी देती है, जैसे कि कंटेंट किस विषय पर आधारित है, कंटेंट में यूजर को क्या जानने को मिलेगा. Description भी सर्च इंजन बोट्स को header section में लिखा मिलता है.

HTML Coding में Description

<head >
<Description>  Your Webpage Description </Description>
</head >

Description को कैसे लिखें

Description लिखते समय निम्न बातों का ध्यान रखें –

Length – Description की Length  को हमेशा 140 से 150 शब्दों के बीच में होनी चाहिए.

Keyword – डिस्क्रिप्शन के शुरुवात में ही आप फोकस कीवर्ड का इस्तेमाल कर सकते हैं.

Use Call to Action Word – Description में भी आप Call to Action Word का इस्तेमाल कर सकते हैं.

User Friendly Description – डिस्क्रिप्शन को हमेशा User Friendly लिखना चाहिये. User Friendly का मतलब है कि Description में यूजर क्या जानना चाह रहा है उसके बारे में लिखना चाहिए.

नोट - अधिकतर मामलों में मेटा डिस्क्रिप्शन को सर्च इंजन अपने अनुसार यूजर को दिखाते हैं. सर्च इंजन आपके ब्लॉग पोस्ट से यूजर के Query के Relevant पैराग्राफ को डिस्क्रिप्शन में दिखा सकते हैं.  

यह लेख भी पढ़ें –

अंतिम शब्द: Title and Meta Description in SEO Hindi

आज के इस लेख में आपने सीखा कि टाइटल और मेटा डिस्क्रिप्शन को कैसे लिखा जाता है, और इसकी Importance क्या है. अगर आप सोचते हैं कि इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आप मेटा टाइटल और डिस्क्रिप्शन लिखना सीख जायेंगे तो आप गलत हो सकते हैं.

इस लेख में आपको केवल टाइटल और डिस्क्रिप्शन का एक Structure बताया गया है. जब तक आप अपने कीवर्ड से सम्बंधित वेबसाइट जो रैंक कर रही हैं उनको नहीं देखोगे, उनके बारे में नहीं समझोगे कि उन्होंने किस प्रकार से मेटा टाइटल और मेटा डिस्क्रिप्शन लिखा है तब तक आप मेटा टाइटल और मेटा डिस्क्रिप्शन लिखना नहीं सीख सकते हैं.

इस बात को हमेशा याद रखना SEO एक लगातार की जाने वाली प्रोसेस है. इसमे आपको निरंतर सीखने की जरुरत होती है. जितनी ज्यादा वेबसाइट आप Visit करेंगे उतने अच्छे तरीके से आप Title and Meta Description in SEO Hindi लिखना सीखेंगें.

इस आर्टिकल में इतना ही, उम्मीद करता हूँ दोस्तों आपको यह लेख पसंद आया होगा. इस लेख को सोशल मीडिया पर अन्य लोगों के साथ भी जरुर शेयर करें, ताकि दूसरों को भी सही इनफार्मेशन मिल सके.

लेख को अंत तक पढने के लिए धन्यवाद||

Categories SEO

Hey Friends, I am Devendra Rawat. I am Blogger|| Hinditechdr.com Blog बनाने का मेरा यही मकसद है कि Hindi Readers को Blogging, SEO, Internet आदि की सटीक जानकारी हिंदी भाषा में प्रदान करा सकूँ. मेरे Blog पर आने के लिए धन्यवाद ||

Leave a Comment