Voice Search Optimization क्या है और कैसे करें?

Voice Search Optimization Kya Hai: अगर आप SEO के फील्ड से जुड़े हैं या फिर आप ब्लॉगर और वेब कंटेंट प्रोवाइडर हैं तो आपको Voice Search Optimization के बारे में जानकारी होनी चाहिए. चूँकि आज के समय पर लोग गूगल पर टाइप करने के बजाय बोलकर क्वेरी करना पसंद करते हैं, और पिछले कुछ सालों में वॉइस सर्च बहुत तेजी से बढ़ी है. इसलिए अपनी वेबसाइट पर अधिक ट्रैफिक प्राप्त करके लिए आपको वॉइस सर्च ऑप्टिमाइजेशन के बारे में जानना चाहिए.

इस ब्लॉग पोस्ट में हमने आपको वॉइस सर्च ऑप्टिमाइजेशन क्या है, यह क्यों महत्वपूर्ण है और वॉइस सर्च ऑप्टिमाइजेशन कैसे करें की पूरी जानकारी दी है. इस लेख को अंत तक पढने के बाद आप वॉइस सर्च ऑप्टिमाइजेशन को अच्छी तरह से समझ जायेंगें.

YouTube Channel
Telegram Group

तो आइये दोस्तों बिना समय गंवाए शुरू करते हैं आज का यह लेख और सबसे पहले जानते हैं आखिर यह वॉइस सर्च क्या होता है.

वॉइस सर्च क्या है (What is Voice Search)

Voice Search एक ऐसी टेक्नोलॉजी है जो उपयोगकर्ताओं को सर्च इंजन या डिजिटल असिस्टेंट जैसे Siri, Alexa आदि से अपनी क्वेरी टाइप करने के बजाय बोलने में सक्षम बनाती है. इस टेक्नोलॉजी की मदद से यूजर गूगल जैसे सर्च इंजन में बोलकर अपनी क्वेरी कर सकता है और सर्च इंजन यूजर की आवाज को recognize करके उसे सबसे बेस्ट रिजल्ट दिखाता है.

आज के समय पर लोग गूगल पर टाइप करने से ज्यादा बोलकर अपनी क्वेरी करना पसंद करते हैं. Google Asistent, Siri, Alexa, Windows Cortana जैसे उपकरणों ने वॉइस सर्च की लोकप्रियता काफी हद तक बढ़ा दी है, इसलिए आज हर एक वेबमास्टर को अपने कंटेंट को वॉइस सर्च के अनुसार ऑप्टिमाइज़ करना महत्वपूर्ण है.

वॉइस सर्च काम कैसे करता है?

How does voice search work

वॉइस सर्च उपयोगकर्ताओं की वॉइस कमांड को सर्च क्वेरी में सक्षम बनाने के लिए speech recognition technology का उपयोग करता है. यह टेक्नोलॉजी यूजर के द्वारा बोले गए शब्दों को टेक्स्ट में बदलती है, परिणामस्वरूप सर्च इंजन यूजर की क्वेरी का आंसर सर्च रिजल्ट पेज में दिखाते हैं. सर्च इंजन उपयोगकर्ता की क्वेरी के अनुसार सबसे बेस्ट रिजल्ट दिखाते हैं.

कंटेंट प्रोवाइडर को अपने प्रोडक्ट या सर्विस से सम्बंधित पूछे जाने वाले सवालों का संक्षिप्त और सीधा जवाब देने पर फोकस करना चाहिए क्योंकि वॉइस सर्च क्वेरी आमतौर पर प्रश्नों के रूप में ही व्यक्त की जाती है. इसके साथ ही कंटेंट प्रोवाइडर अपने कंटेंट के बारे में अधिक इनफार्मेशन देने के लिए स्कीमा मार्कअप का इस्तेमाल कर सकते हैं.

वॉइस सर्च ऑप्टिमाइजेशन क्या है (What is Voice Search Optimization)

वॉइस सर्च ऑप्टिमाइजेशन (VSO) एक ऐसी प्रोसेस है जिसकी मदद से हम अपनी वेबसाइट के कंटेंट को इस प्रकार से ऑप्टिमाइज़ करते हैं जिससे वॉइस सर्च में हमारे वेबसाइट की विजिबिलिटी improve होती है और वेबसाइट को सर्च इंजन से अधिक ऑर्गनिक ट्रैफिक मिलता है. वॉइस सर्च करने पर सर्च इंजन जिस वेबसाइट को अधिक suggest करेंगें उसमें उतना भी अधिक ट्रैफिक बढेगा.

वॉइस सर्च ऑप्टिमाइजेशन क्यों जरुरी है?

आज के टाइम पर लोग Hands Free टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल ज्यादा पसंद करते हैं. इन्टरनेट पर पिछले कुछ सालों में Voice Search Query में 61 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है. आज अधिकतर लोग टाइप करने के बजाय बोलकर क्वेरी करना पसंद करते हैं. क्योंकि वॉइस सर्च टाइपिंग की तुलना में आसान और अधिक यूजर फ्रेंडली है. आप अपने अन्य कामों को करने के साथ वॉयस सर्च कर सकते हैं.

Statista.com के अनुसार, दुनिया भर में वॉयस असिस्टेंट की संख्या 2024 तक 8.4 बिलियन तक पहुंच सकती है. इसलिए इस डिजिटल युग में बड़ी संख्या में ऑडियंस प्राप्त करने के लिए और मार्केट में प्रतिस्पर्धी बने रहने के लिए हर एक बिज़नस और कंटेंट प्रोवाइडर को अपने कंटेंट को Voice Search के लिए ऑप्टिमाइज़ करना महत्वपूर्ण है.

वॉइस सर्च ऑप्टिमाइजेशन कैसे करें?

ब्लॉग पोस्ट को यहाँ तक पढने पर आप Voice Search Optimization Kya Hai और यह क्यों आपकी वेबसाइट की रैंकिंग को improve करने के लिए महत्वपूर्ण है. चलिए अब जानते है कैसे आप अपनी वेबसाइट को वॉइस सर्च के लिए ऑप्टिमाइजेशन कर सकते हैं.

1. Long Tail Keyword का इस्तेमाल करें

वॉइस सर्च और टाइपिंग सर्च में सबसे महत्वपूर्ण अंतर यही है कि वॉइस सर्च में लम्बे phrase होते हैं, जिनमें पूर्ण वाक्य या प्रश्न शामिल होते हैं. यूजर जब वॉइस सर्च करते हैं तो वह लंबे प्रश्न के रूप में क्वेरी करते हैं. अपनी वेबसाइट को वॉइस सर्च के लिए ऑप्टिमाइज़ करने के लिए आपको Specific Keywords के बजाय Long Tail Keyword का इस्तेमाल करना चाहिए.

आपको इसमें अच्छी प्रकार से कीवर्ड रिसर्च करने की आवश्यकता होगी कि लोग वॉइस सर्च में किस प्रकार के वाक्यांश प्रश्नों को करते हैं, और फिर उसी कीवर्ड के अनुसार आपको अपने कंटेंट को ऑप्टिमाइज़ करना होगा.

2. प्रश्न – उत्तर को अपने कंटेंट में शामिल करें

जैसा कि हमने उपर भी बात की वॉइस सर्च क्वेरी में वाक्यांशों की तुलना में प्रश्न अधिक होते हैं, क्योंकि लोग Natural Language में प्रश्न पूछते हैं. सर्च इंजन ने जब से वॉइस सर्च को implement किया है तब से Question Query में बढ़ोतरी हुई है.

आप विशेष रूप से गूगल सर्च रिजल्ट पेज में People Also Ask वाले सेक्शन से प्रश्नों को उठाकर उनका जवाब अपने कंटेंट में लिख सकते हैं. आप अपने Niche से सम्बंधित relevant प्रश्नों का जवाब FAQ Schema का इस्तेमाल करके एक ही वेबपेज में दे सकते हैं या फिर हर एक केटेगरी के प्रश्न के लिए अलग वेबपेज बना सकते हैं, ताकि वॉइस सर्च टेक्नोलॉजी आपकी वेबसाइट से इनफार्मेशन उठाकर यूजर को दिखा सके.

इसके अतिरक्त आप अपने बिज़नस या निच से समबन्धित पूछे जाने वाले सामान्य प्रश्नों पर भी विचार कर सकते हैं और उन प्रश्नों को अपने वेबपेज में शामिल कर सकते हैं.

3. Conversational Format में कंटेंट को बनायें

वॉइस सर्च ऑप्टिमाइजेशन के लिए आपको अपने कंटेंट को Conversational Format में बनाना होगा. चूँकि वॉइस सर्च क्वेरी में स्पष्टता अधिक होती है, और यूजर को अपने सवाल का सटीक जवाब चाहिए होता है. इसलिए आप कंटेंट को लंबा बनाने के चक्कर में इधर उधर की फ़ालतू बातें न जोडकर सीधे बातचीत के रूप में अपने कंटेंट को बनायें. आपके कंटेंट का लहजा इस पर आधारित होना चाहिए कि लोग सामान्य बातचीत में कैसे बोलते हैं.

4. कंटेंट मोबाइल फ्रेंडली होना चाहिए

लोग वॉइस सर्च का उपयोग अधिकतर डेस्कटॉप की तुलना में मोबाइल पर करते हैं, ऐसे में आपकी वेबसाइट और कंटेंट का मोबाइल फ्रेंडली होना महत्वपूर्ण है. आज के टाइम में लोग मोबाइल डिवाइस से ज्यादा जुड़े हुए हैं, वे अन्य कामों के साथ साथ मोबाइल का इस्तेमाल करते हैं.

वॉइस सर्च hands free टेक्नोलॉजी होने के कारण लोग ड्राइविंग करते समय, खाना बनाते समय, या रात को बिस्तर में टाइपिंग के बजाय बोलकर गूगल या किसी अन्य सर्च इंजन में क्वेरी करते हैं. मोबाइल डिवाइस से क्वेरी होने पर सर्च इंजन ऐसे कंटेंट को यूजर को दिखाते हैं जो मोबाइल फ्रेंडली होंगें.

अपने वेबसाइट और कंटेंट को मोबाइल फ्रेंडली बनाने के लिए आप मोबाइल फ्रेंडली थीम का उपयोग कर सकते हैं या फिर Google AMP का इस्तेमाल भी कर सकते हैं.

5. कंटेंट को लोकल सर्च के लिए ऑप्टिमाइज़ करें

लगभग 22% वॉइस सर्च लोकल कंटेंट और इनफार्मेशन के लिए की जाती है. अगर आपका कोई लोकल बिज़नस है तो अपने कंटेंट को वॉइस सर्च के लिए ऑप्टिमाइज़ करके आप अपने ग्राहकों को बढ़ा सकते हैं.

जैसे कि माना आपका रेस्टुरेंट है और कोई यूजर आपके शहर में गूगल पर वॉइस सर्च करता है “Best restaurant near me” या “what’s the best restaurant near me?” तो सर्च इंजन यूजर के लोकेशन की पहचान करके सबसे बेस्ट परिणाम उसे सर्च रिजल्ट मे दिखाते हैं.

आपको अपने गूगल माय बिज़नस (GMB) प्रोफाइल में माइक्रो डेटा को अपडेट रखना होगा जैसे कि बिज़नस की लोकेशन, फोन नंबर, बिज़नस संचालन के घंटे, हाईवे से डायरेक्शन आदि relevant इनफार्मेशन.

6. स्कीमा मार्कअप का इस्तेमाल करें

Schema Markup आपके वेबपेज के बारे में एक माइक्रो डेटा होता है जिसकी मदद से सर्च इंजन आपके वेबपेज को ज्यादा अच्छी तरह से समझते है. स्कीमा मार्कअप सर्च इंजन को बताते हैं कि आपका कंटेंट किस बारे में है. जब सर्च इंजन आपके कंटेंट के बारे में बेहतर तरीके से समझेंगें तो वॉइस सर्च में भी अच्छी रैंकिंग देंगें. इसलिए आपको अपने कंटेंट में स्कीमा मार्कअप का इस्तेमाल करना चाहिए.

अगर आपकी वेबसाइट वर्डप्रेस पर है तो आप Rank Math प्लगइन की मदद से अपने वेबसाइट में स्कीमा मार्कअप का इस्तेमाल कर सकते हैं, और अगर आप अन्य किसी CMS का इस्तेमाल कर रहे हैं तो ऑनलाइन Schema Markup Generator टूल की मदद से स्कीमा मार्कअप जनरेट करके अपने कंटेंट के Head सेक्शन में लगा सकते हैं.

यह भी पढ़ें –

FAQ: Voice Search Optimization Kya Hai

Q – वॉइस सर्च आपके एससीओ को कैसे लाभ पहुंचा सकती है?

वॉइस सर्च के बढ़ते उपयोग के कारण सर्च इंजन ऐसे रिजल्ट को दिखाना पसंद करते हैं जिन्हें वॉइस सर्च के लिए ऑप्टिमाइज़ किया गया हो. अगर आप अपने कंटेंट कोआपका कंटेंट भी वॉइस सर्च के लिए ऑप्टिमाइज़ होगा तो यूजर की वॉइस क्वेरी पर सर्च इंजन आपका कंटेंट यूजर को suggest करेंगें जिससे आपके वेबसाइट पर ट्रैफिक बढेगा.

Q – वॉयस सर्च हर वेबसाइट पर SEO के लिए क्यों जरूरी है?

आज अधिकतर इन्टरनेट यूजर वॉयस सर्च के माध्यम से अपनी क्वेरी करते हैं, क्योंकि वॉयस सर्च टाइपिंग की तुलना में आसान और यूजर फ्रेंडली है. इसलिए अब हर वेबसाइट को अच्छी SEO रैंकिंग और अधिक ट्रैफिक हासिल करने के लिए वॉयस सर्च ऑप्टिमाइजेशन करना होगा.

निष्कर्ष

तो दोस्तों यह थी Voice Search Optimization Kya Hai के बारे में सम्पूर्ण जानकारी. उम्मीद करते हैं दोस्तों इस आर्टिकल को पढने के बाद आप वॉइस सर्च ऑप्टिमाइजेशन को अच्छी प्रकार से समझ गए होंगें. यदि अभी भी आपके मन में इस लेख से जुड़े कोई भी सवाल हैं तो मुझे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं, मैं जल्दी से जल्दी आपके सवालों का संतोषपूर्ण जवाब देने की कोशिस करूँगा.

Categories SEO

Hey Friends, I am Devendra Rawat. I am Blogger|| Hinditechdr.com Blog बनाने का मेरा यही मकसद है कि Hindi Readers को Blogging, SEO, Internet आदि की सटीक जानकारी हिंदी भाषा में प्रदान करा सकूँ. मेरे Blog पर आने के लिए धन्यवाद ||

Leave a Comment